*जनपद अध्यक्ष के निरीक्षण में नहीं मिले एक भी मजदूर , कागजो मे 161 मजदूर कार्य करते मिले* ग्राम पंचायत मुंगावली व बघेदरी का किया औचक निरीक्षण

417

 

करेरा (शिवपुरी) :- *जनपद पंचायत करेरा की ग्राम पंचायत मुगांवली व बघेदरी का जनपद पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती बती आदिवासी ने आज औचक निरीक्षण किया। ग्राम मुंगावली के औचक निरीक्षण में ग्राम में दो कार्य होना पाए गये।*
सुदूर संपर्क सड़क मार्ग मुगावली से मजरा डाढ़ा खाच की ओर जो लगभग 1 किलोमीटर की सड़क लगभग 15 लाख रुपए की लागत से बनाई जाना है, उसमें आज 42 मजदूर कार्य करते कागजो में दिखाये गए। जबकि मौके पर एक जेसीबी मशीन व दो ट्रैक्टर कार्य कर रहे थे। जब जनपद अध्यक्ष ने ट्रैक्टर व JCB के चालकों से पूछा कि आप किसके कहने पर यहां कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा हमें पंचायत द्वारा कार्य पर लगाया गया है। दूसरा सुदूर संपर्क मार्ग मेन रोड से करण के डेरा की ओर बन रहा जो कि 1 किलोमीटर लंबा मार्ग 15 लाख़ रुपए की लागत से बनाया गया है उसमें भी आज 30 मजदूर कागजों में कार्यरत बताए गए। जबकि यह मार्ग मशीनों द्वारा पूर्व में ही बनवा दिया गया है। यहां पर 19 नवंबर 17 से 25 नवंबर 17 तक 30 मजदूर जनरेट किए गए हैं। पूर्व में भी 12 नवंबर 17 से 18 नवंबर17 तक 30 मजदूर जनरेट किए गए थे ।जबकि यहां आदिवासी बस्ती में भ्रमण के दौरान आदिवासी मजदूरों ने बताया कि हम को कोई रोजगार नहीं दिया जाता है ।पूरा कार्य मशीनों से कराया जाता है ।इसी कारण हमारे परिवार के पुरुष व बच्चे मजदूरी करने बाहर दूरदराज गावो में चले गए हैं। हम लोग यहां महिलाएं अकेले रहते हैं हमको कोई मजदूरी नहीं मिलती है। हम लोग एक- एक दाने को मोहताज हैं, परेशान हैं, हमारी कोई नहीं सुनता। हमारे शौचालय भी नहीं बने हुए हैं। शौचालय की राशि का भी अता पता नहीं है ।बड़े-बड़े लोगों को शौचालय की राशि मिल गई है। हमको कोई राशि नहीं दी गई है ।जनपद अध्यक्ष ने ग्रामीणों की समस्या सुनकर वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क साधा तो वरिष्ठ अधिकारी अपने फोन बंद कर के बैठे हुए थे, किसी अधिकारी ने फोन नहीं उठाया ।जब उन्होंने एसडीएम श्री अंकित अस्थाना से बात की तो उन्होंने प्रतिवेदन पर कारवाई करने की बात कही। जनपद अध्यक्ष के साथ जनपद सदस्य कप्तान पाल, श्रीमती मीरा जाटव ,श्रीमती मीना यादव अध्यक्ष निर्माण समिति सहित अन्य सदस्य थे। यहां के पंचायत भवन पर भी अनाधिकृत रूप से कब्जा पाया गया। जनपद अध्यक्ष ने सरपंच, सेक्रेटरी को भी तलाशा लेकिन वे मौके पर नहीं मिले।

इसी प्रकार ग्राम पंचायत बघेदरी अव्वल में चल रहे सुदूर संपर्क मार्गो का भी निरीक्षण किया। ग्राम बघेदरी से बृजमोहन के डेरा तक सुदूर संपर्क मार्ग जो कि 1 किलोमीटर लंबा मार्ग लागत लगभग 15 लाख रुपए जो मार्ग पूर्व में ही पूरा हो चुका था। जबकि आज भी 26 मजदूर कागजों में चलते बताए गए ।यहां पर बृजमोहन के डेरा से मछावली की ओर भी 1 किलोमीटर लंबा सुदूर संपर्क मार्ग बना हुआ मिला। जबकि आज यहां 63 मजदूर कागजों में काम करते दिखाये गये।
उक्त कार्य मशीनो से पूर्व मे ही कराया जा चुका था। वह भी बहुत घटिया था, मोटाई व चौड़ाई भी अनुपात से काफी कम पाया गया। गांव के अनेक मजदूरों ने जनपद अध्यक्ष व जनपद सदस्यों के आगे रोना रोया कि हमको कोई मजदूरी नहीं मिलती। यहां केवल मशीनों से काम कराया जाता है। उक्त कार्य पूर्व में ही करा लिए गए जबकि आज मौके पर 63 मजदूर जनरेट कर रखे हैं। गांव की एक गरीब मजदूर महिला कमला जाटव से जब जनपद अध्यक्ष ने बात की तो वह भावुक होकर रोने लगी और उसने कहा कि महाराज मजदूरी तो छोड़ो हमें कुछ भी नहीं मिलता । जनपद अध्यक्ष ने यहां भी मजदूरो की शिकायत लेकर अधिकारियों से बात करने की बात कही।

 

जनपद अध्यक्ष ने बताया कि हमने दो दर्जन से अधिक गावो का भ्रमण किया। हमे कही भी मजदूर कार्य करते नही मिले। सभी जगह मशीनो से काम पूर्व मे ही करा लिया जाता है।
हमने कार्यवाई हेतु सीईओ को लिखा है। लेकिन सीईओ द्वारा खानापूर्ति कर जांचें करा ली जाती हैं मजदूरों को कोई मजदूरी नहीं दिलाई जाती है