एक साथ तीन भालुओ से ग्रामीण का खूनी संघर्ष, अपनी साँसे रोककर पानी भरे खेत में लेटा रहा तब जाकर बची जान*

333

कोरबा । खेत में लगी फसल देखने जा रहे ग्रामीण पर तीन भालुओ ने एक साथ हमला कर दिया। लगभग पंद्रह मिनट तक चले मुकाबले के बाद हमले में बुरी तरह जख्मी ग्रामीण ने जान बचाने के लिए पानी से भरे खेत में कुछ मिनट अपनी साँसों को रोककर लेट गया जिससे बाद भालू उसे मृत समझकर वापस लौट गए। भालुओ के जाते ही ग्रामीण ने अपने परिजनों को आवाज लगाई तब जाकर उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। पूरा मामला कोरबा के जटगा चौकी के ग्राम अमझर का है। जहां का रहने वाला मेवाराम हर दिन की तरह शुक्रवार को भी अपने खेत की ओर गया हुआ था। इसी दौरान पहाड़ से नीचे की ओर आते तीन भालूओं ने मेवाराम पर अचानक हमला बोल दिया। मेवाराम भालुओ से संघर्ष करते हुए जान बचाने की जद्दोजहद करता रहा। आखिर में खून से लथपथ मेवाराम अपने ही खेत में सांसे रोककर लेट गया। तीनो भालू उसके आसपास टहलते रहे और फिर उसे मरा समझकर वापिस जंगल लौट गए। घायल मेवाराम ने बताया की उसे यकीन नहीं हो रहा की वह बच गया है और अब अस्पताल में है। उसने बताया की हमले के बाद वह पास के एक पेड़ पर भी चढ़ गया था लेकिन एक भालू ने उसे पेड़ पर चढ़कर उस पर हमला कर दिया। फ़िलहाल मेवाराम का उपचार जिला अस्पताल में चल रहा है। भालू से हुए खुनी संघर्ष में उसे हाथ, पैर और सिर पर गंभीर चोट आई है।