कैलाश विजयवर्गीय की विधायकी जाएगी या रहेगी हाईकोर्ट देगा फैसला आज

334

इंदौर, । 45 महीने सुनवाई के दौरान 41 गवाहों के बयान सुनने के बाद हाई कोर्ट शुक्रवार को फैसला सुनाएगी कि बीजेपी के कद्दावर नेता एवं महू से विधायक कैलाश विजयवर्गीय की विधायकी रहेगी या जाएगी। इसके बाद तय होगा कि महू विधानसभा में उपचुनाव की स्थिति बनेगी या नहीं। करीब डेढ़ महीने पहले बहस सुनने के बाद कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया गया था।

विजयवर्गीय के खिलाफ यह चुनाव याचिका महू विधानसभा सीट पर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले अंतरसिंह दरबार ने 20 जनवरी 2014 को दायर की है। पहले यह जबलपुर में दायर हुई थी जिसे बाद में इंदौर बेंच में शिफ्ट किया गया।

याचिका में आरोप है कि विजयवर्गीय ने चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है। उनका चुनाव निरस्त किया जाए। दरबार की तरफ से एडवोकेट रवींद्रसिंह छाबड़ा पैरवी कर रहे हैं जबकि विजयवर्गीय का पक्ष सीनियर एडवोकेट वीरकुमार जैन ने रखा। याचिका में कोर्ट ने चार मुद्दे तय किए हैं।