खबर आजकल से बोले सिंहदेव….सियासत BELOW THE BELT नहीं होनी चाहिए, सीडी कांड की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में कराई जाएं जांच*ओर क्या बोले-देखिये…..?

337

*विनोद पर लगे आरोप विश्वसनीय नही लगते..CBI स्वतंत्र एजेंसी नही*

अरुन अग्रवाल –
रायपुर। “विनोद का जो मसला है तो..मैं उन्हे सालों से जानता हूँ..आरोप कहीं से सही नही लगते..उन्हे पक्ष रखने का मौक़ा मिलना चाहिए..किसी का नीजि क्षण..राजनीति का विषय नही बन सकता..मैं इसे सही नही मानता..यह निजता का हनन है..वहीं सीडी जैसे अभिलेख की सबसे पहले जाँच कराना चाहिए..और सही हो तो सार्वजनिक करना चाहिए..पहले पॉंपलेट से दुष्प्रचार होता था..अब ज़रिया बदल गया..पर सिक्के का दूसरा पहलू यह भी है कि..अगर आप सार्वजनिक जीवन में है..तो आपको भी सावधानी रखनी चाहिए…..”
खबर आजकल से नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव ने चर्चा करते हुए यह बातें कहीं..
सिंहदेव हिमांचल में है..और बहन के चुनाव प्रबंधन में व्यस्त हैं..छत्तीसगढ में जिस दिन..सीडी कांड.. को लेकर भूपेश बघेल अपने बंगले पर ख़ुलासा कर रहे थे..उसी दिन..वे हिमांचल के लिए रवाना हुए थे..
उन्होने कहा –
“हमारे पास रोज़ दस चीज़ें आती हैं..सीडी भी..पॉंपलेट भी..तो पहले उसकी तस्दीक़ कराएँगे न.. यूँ ही तो नही कह देंगे…यूँ ही तो जारी नही कर देंगे..और निजता का अपना महत्व और अपना मान है..सियासत BELOW THE BELT नही होती..”
सिद्धांतों को लेकर दृढ़.. टी एस सिंहदेव ने कहा
“ इस मामले में जो कुछ हो रहा है..वह पारदर्शिता और शुचिता नही है..कोई न्यायाधीश नही हो सकता..सीडी नक़ली या असली.. यह लैब रिपोर्ट से तय होगा..कोई और नही करेगा..जहाँ तक विनोद का मसला है..तो मैं अपने क़रीब तीस बरस पुराने संबंधों के आधार पर कह सकता हूँ..आरोप विश्वसनीय नही लगते..”
पूरे मामले से खिन्न.. सिंहदेव ने दो टूक कहा –
“पूरे प्रकरण में..न्यायमूर्ति बनने की बजाय..गंभीरता से देखने समझने की जरुरत है..बेहतर है कि..जिसका जो काम है वो वही करे..एडॉप्टेड है..करप्ट है.. यह लैब बताएगा..कोई और नही..सीडी मिली नही ..पर ख़बरें प्रसारित हुई कि..सीडी का ज़ख़ीरा मिला..”
टी एस सिंहदेव..सीडी या पॉंपलेट राजनीति को पसंद नही करते..यह बात उन्हे जानने वाला हर व्यक्ति जानता है..और यही वजह है कि..हर बात में सनसनी खोजने वालो को..सिंहदेव का इस मसले पर मौन.. असहज करता है..
सिंहदेव ने स्पष्ट किया..
“मेरी जानकारी में..इस पूरे मामले में कांग्रेस ने कोई सीडी जारी नही की..विनोद पर की गई कार्यवाही..सवाल खड़े करती है..जहाँ तक सीबीआई की बात है.. तो.. वह भी सरकार नियंत्रित ऐजेंसी है..जाँच कराने की बात में इमानदारी है तो..सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में स्वतंत्र ऐजेंसी हो..” ।