Video-विनोद वर्मा ने कहा-मेरे पास है छत्तीसगढ़ के मंत्री की सीडी, पुलिस ने बंद किया मुंह, रायपुर पुलिस का गोलमोल जवाब* विडिओ देखे

565

अरुन अग्रवाल
रायपुर(खबर आजकल)। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ मंत्री की कथित अश्लील सीडी बनाने के आरोप में गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा का पुलिस ने मुंह बंद करवा दिया। विनोद वर्मा को कोर्ट में पेश करने के लिए थाने से बाहर निकाला जा रहा था उस वक्त मीडियाकर्मी मौजूद थे। उन्होंने जब प्रतिक्रिया लेने की कोशिश की तो वर्मा सिर्फ इतना कह पाए थे कि उनके पास छत्तीसगढ़ के एक मंत्री की सीडी है, तो पीछे से एक पुलिस कर्मी ने मुंह बंद कर दिया। उधर, रायपुर पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस में वर्मा की गिरफ्तारी की पुष्टि की है और बताया कि ब्लैकमेलिंग की शिकायत के बाद यह कार्रवाई की गई है, लेकिन पुलिस ने यह साफ नहीं किया कि ब्लैकमेलिंग वर्मा ने की थी या और किसी ने।

पत्रकार की गिरफ्तारी के बाद पुलिस उन्हें कोर्ट में पेश करने के लिए रवाना हो गई है। इसके पहले मामले पर आईजी रायपुर प्रदीप गुप्ता व एसपी संजीव शुक्ला ने कंट्रोल रुम में शुक्रवार दोपहर प्रेसवार्ता में जानकारी दी।

आईजी ने बताया कि गुरुवार को दोपहर 12 बजे प्रकाश बजाज नाम के एक व्यक्ति पंडरी थाने में इस बात की शिकायत की पिछले तीन-चार दिन से उसके लैंड लाइन पर ये कॉल आ रहा था कि-तुम्हारे आका की अश्लील सीडी बन रही है। अपने आका की इज्जत बचाना चाहते हो, तुरंत मिलने आओ, बातचीत करो, अगर जानना चाहते हो, ये सीडी किस दुकान में बन रही है। तो इस दुकान में आकर पता कर सकते हों।

पुलिस ने प्रकाश बजाज की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली और गाजियाबाद से दुकानदार के पास से सीडी बरामद किया। दुकानदार ने पूछताछ में बताया कि उन्हें यह सीडी एक हजार कॉपी करने के लिए दिया गया था। सीडी कॉपी कराने के लिए विनोद वर्मा ने ही रकम दिए थे। पुलिस ने वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा के घर तलाशी ली जिसमें 500 नग अश्लील सीडी और दो लाख रुपए नगद बरामद कर गिरफ्तार किया गया है। एसपी संजीव शुक्ला ने बताया कि फोन किसने किया इसकी जानकारी नहीं है। पुलिस जांच कर रही है।

इस मामले में दो धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। चैन स्नेचिंग के मामले में पहले से ही दिल्ली में मौजूद छत्तीसगढ़ पुलिस टीम को जांच का जिम्मा सौंपा गया। दिल्ली में मौजूद टीम ने इस मामले में बताये पते पर पड़ताल की तो सीडी राइट करने वाले दुकान का पता चला। दुकान से ही इस बात का भी पता चला कि विनोद वर्मा उनसे एक सीडी की एक हजार कॉपी करवाने आया था। दुकानदार के पास से मिले मोबाइल नंबर और पते के आधार पर पुलिस की टीम गाजियाबाद के इंदरापुरम पहुंची और फिर विनोद वर्मा की गिरफ्तारी हुई। हालांकि इस मामले में पुलिस इस बात से इंकार करती रही, कि आखिर आका शब्द का इस्तेमाल प्रकाश बजाज को किसके लिये किया गया। आईजी ने कहा कि आईटी एक्ट की धारा में अश्लील सीडी का प्रचार प्रसार करना अपराधिक कृत्य है। पुलिस विनोद वर्मा को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर रायपुर लाएगी। पुछताछ में खुलासा हो सकेगा की पूरा मामला के पीछे किसका हाथ है।