रायगढ़ – छेड़छाड़ के मामले पर पुलिस विवेचना का खेल शुरू*

267

रायगढ़। मंत्री अमर अग्रवाल के चचेरे भाई पवन अग्रवाल पिता बाबूलाल तोता,के खिलाफ खरसिया चौकी में छेड़छाड़ का मामला दर्ज होने के बाद पूरे छत्तीसगढ़ की राजनीती में भूचाल आ गया है,अगर पुलिस सूत्रों की माने तो मामला दर्ज होते ही आरोपी पवन अग्रवाल खरसिया छोड़ रायपुर फरार हो गया है।

उल्लेखनीय है कि पीड़िता के द्वारा मामला दर्ज कराने के बाद से ही पीड़िता के ऊपर मामला वापस लेने के लिए दबाव बनाया जा रहा है,वहीं केस कमजोर किये जाने की भी कवायद जारी है, इस मामले को लेकर खरसिया चौकी प्रभारी मालाकार का कहना है कि पुलिस विवेचना कर रही है,लेकिन कानून के जानकारों की माने तो आरोपी पवन अग्रवाल पर लगी धाराएं 354,354(क),354(ख)गैरजमानती अपराध माना गया है,और निर्भया केस के बाद कानून में व्यापक बदलाव करते हुए एंटी रेप लॉ बनाया गया है,जिसके बाद से ऐसे अपराधों को गंभीर अपराध की श्रेणी में रखा गया है,जिसके तहत अपराध दर्ज होते ही आरोपी की शीघ्र गिरफ़तारी कर कोर्ट में पेश करना चाहिए ताकि पीड़िता को जल्द न्याय मिल सके,लेकिन इस तरह के ज्यादातर मामलो की बात करें तो रायगढ़ जिले में पुलिस की कार्यवाही सुस्त ही रही है,जहाँ तक जिले में घटित हाई प्रोफाइल मामलो में आरोपियों को विवेचना के नाम पर वक्त दिया जाता है ताकि आरोपी अपने बचाव का रास्ता निकाल सके।

बहरहाल पवन अग्रवाल के ऊपर छेड़खानी का मामला दर्ज़ होने के बाद से ही प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ गया है,वहीँ मामला प्रदेश के कद्दावर मंत्री अमर अग्रवाल के परिवार का है,इसलिए पुलिस के लिए भी ये केस किसी चुनौती से कम नहीं,अब देखना ये है कि पुलिस इस मामले को लेकर क्या रुख अख्तियार करती है,एक तरफ़ ग़रीब महिला की इज्ज़त का सवाल है,तो दूसरी तरफ़ प्रदेश के ताकतवर मंत्री के परिवार की इज्जत दांव पर लगी है।