पिता के थप्पड़ का बदला लेने बेटों ने कर दी तीन की हत्या , की अंधाधुंध फायरिंग …….

1006
भिंड (ग्वालियर).शहर के चिलोंगा गांव में एक साथ हुए ट्रिपल मर्डर का मामला सामने आ गया है। इसकी शुरूआत दीपावली की शुक्रवार सुबह 6.30 पर मामूली झगड़े से हुई थी। इस झगड़े में एक गुट ने दूसरे गुट के वृद्ध को थप्पड़ मार दिया। दोनों गुट एक दूसरे के खिलाफ कम्पलेंट करने सुरपुरा थाना पहुंच गए। थाने में ही दोनों ही गुट का राजीनामा करा दिया गया था। पुलिस ने बिना कार्रवाई किए छोड़ दिया लेकिन मामला वहीं खत्म नहीं हुआ था। वहीं एक गुट पहले से वारदात की फिराक में था। उसने दूसरे गुट के लोगों पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना के बाद पूरे गांव में अभी भी दहशत का माहौल है। क्या है मामला…
– जानकारी के मुताबिक देवेश सिंह भदौरिया और राजू सिंह भदौरिया पुराना जमीनी विवाद चला आ रहा है।
– गुरूवार की सुबह 6.30 दोनों गुटों में किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया।
– इस झगड़े में देवेश और सुरेश ने राजू सिंह में थप्पड़ मार दिया।
– इस पर दोनों गुट अपनी- अपनी शिकायत लेकर सुरपुरा थाना पहुंचे।
– पुलिस इनकी रिपोर्ट लिखती इससे पहले गांव के अन्य लोग भी आ गए।
– बात राजीनामा पर आ गई। दोनों गुट राजीनामा के लिए राजी हो गए।
पिता के थप्पड़ का बदला लेने कर दी हत्या
– यह बात राजू सिंह के लड़कों को गवारा नहीं हुई और पिता के थप्पड़ का बदला लेने के लिए राजू सिंह के लड़कों छोटे सिंह, छोटू, वीरपाल, अजयपाल और देवेंद्र सिंह उर्फ मुल्ला सहित तीन लोगों ने सुबह 9.30 बजे बिजौरा नहर की पुलिया पर थाने से वापस लौट रहे सुरेश, बृजेश, देवेश और उपेंद्र पर बंदूक और कट्टों से फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें बृजेश, सुरेश और देवेश की गोली लगने से मौत हो गई।
– उपेंद्र ने जैसे-तैसे भागकर जान बचाने की कोशिश, लेकिन गोलियों के छर्रे लगने से वे भी जख्मी हो गए। घटना की जानकारी लगते ही पुलिस मौके पर पहुंची और कार्रवाई कर जांच में जुटी।
राजीनामा के बाद थाने में मिठाई बांटी थी मृतक गुट ने
– बताया जा रहा है कि चिलोंगा में मामूली से विवाद में हत्याओं तक बात पहुंचेगी इसका अंदाजा पुलिस और मृतक गुट के लोगों को भी नहीं था।
– यही कारण था कि जब विवाद के बाद थाने में दोनों का राजीनामा हो गया। तो उपेंद्र भदौरिया के गुट ने पुलिस थाने मौजूद सिपाहियों को मिठाई भी खिलाई।
– इसके बाद वे भयमुक्त होकर वापस घर जा रहे थे। तभी रास्ते में फायरिंग शुरू हो गई।
पुरानी रंजिश के चलते की गई हत्या
– भिंड एसपी के मुताबिक, दोनों गुटों में पुरानी रंजिश चली आ रही है। रात में भी गांव में कोई झगड़ा हुआ था, जिसमें मृतक गुट ने दूसरे गुट का सपोर्ट किया था। मृतक गुट ने राजू सिंह को थप्पड़ मारा था। इस बात पर दूसरे गुट ने घटना को अंजाम दिया।
रात में भी हुआ था झगड़ा सुबह फिर हुआ विवाद
– चिलोंगा गांव में बुधवार की रात में कैलाश तोमर और छोटू भदौरिया के बीच किसी बात को लेकर भी झगड़ा हुआ था। इस झगड़े में उपेंद्र भदौरिया के गुट के लोगों ने कैलाश का साथ दिया। रात करीब 11 बजे कैलाश तोमर ने भी इस संबंध में सुरपुरा थाना आकर शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद सुबह देवेश और छोटू भदौरिया के गुट से विवाद शुरू हो गया।
बाइक से पीछा कर 50 गज की दूरी से मारी गोली
– बताया जा रहा है कि हमलावारों ने बिजौरा की पुलिया पर देवेश के गुट के लोगों आते देख जैसे ही कट्टे और बंदूक से गोलियां दागना शुरू किया। वैसे ही देवेश और सुरेश की गोली लगने से वहीं मौत हो गई। जबकि बृजेश जान बचाने के लिए भागा। तो हमलावारों ने बाइक से पीछा कर करीब 50 गज की दूरी पर उसे भी गोली मार दी, जिससे उसकी भी मौत हो गई।