कातिल हसीना – इस लेडी ने करोड़ों की प्रॉपर्टी के लिए किए 3 कत्ल, क्राइम पैट्रोल देख रची साजिश

769
गुड़गांव। गुड़गांव जिले में करोड़ों रुपए की प्रॉपर्टी के लिए एक विधवा महिला द्वारा सास-ससुर और अपाहिज जेठ को मौत के घाट उतार दिए जाने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस पूछताछ में मुख्य आरोपी बहू ने बताया कि उसने क्राइम पैट्रोल देखकर इस ट्रिपल मर्डर की साजिश रची थी। महिला ने अपने भाई और एक नौकर के साथ मिलकर सास-ससुर और जेठ की हत्या की सजिश काे अंजाम दिया। फिर उनकी डेड बॉडीज को भी जला दिया था। बहू ने पुलिस के सामने उगले राज…

– पुलिस के मुताबिक शुक्रवार को कंडे (उपले) के ढेर में एक महिला आैर पुरुष की अधजली डेड बॉडीज मिली थी। ये इस कदर जल चुकी थी कि पुलिस ने छलनी से छानकर अवशेष इकट्ठे किए।
– शनिवार को मृतकों की पहचान 70 साल के सत्यपाल तोमर और उसकी पत्नी पुष्पा तोमर के तौर पर हुई। ये हरियाणा के सोहना शहर में ठाकुरवाड़ा मोहल्ले के रहने वाले थे।
– वहीं, हरियाणा पुलिस ने शनिवार को मृतक सत्यपाल के बेटे पंकज तोमर की अधजली लाश नगीना के पास से बरामद की है। वहीं राजस्थान पुलिस ने बहू गीता और नौकर विकास को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था।
– मूलरूप से अलीगढ़ की रहने वाली गीता ने पुलिस कस्टडी में बताया कि उसके सास ससुर सहित ननद जेठ तंत्र-मंत्र में पूरा विश्वास करते थे। बहुत रुपए इसमें लगा देते थे। तंत्र-मंत्र के कारण दो बार बेटी होने के शक में उसका गर्भपात करवा दिया गया।
– गीता के अनुसार सास-ससुर जेठ द्वारा उसके पति को पैसे-पैसे के लिए मोहताज कर दिया गया, जिसके चलते उसके पति ने सात माह पूर्व आत्महत्या कर ली, लेकिन मुझे शक था कि मेरे पति के साथ कुछ अनहोनी हुई है। इस मामले में पुलिस ने मुझसे बयान भी नहीं लिए।
– गीता ने अपने बयानों में बताया कि पति की मौत के बाद उसके सास-ससुर ने अपनी 3 करोड़ की प्रॉपर्टी बेच दी थी। वहीं जेठ और ससुर ने कई बार मेरे मुझसे गलत संबंध बनाने का प्रयास किया। यहां तक कि मेरी अबोध बच्ची को एक बार सीढ़ी से नीचे गिरा दिया गया। पति की मौत के बाद उसने एक सौ रुपए का नोट तक नहीं देखा। परेशान होकर उसने कपड़े सिलाई का कार्य करने की सोची, लेकिन ससुराल वालों के डर से कोई आने को तैयार नहीं हुआ।
– पुलिस पूछताछ में सास-ससुर जेठ की हत्या की दोषी पुत्रवधु गीता ने पुलिस को बताया कि वह इनकी मौत तो चाहती थी। एक दिन टीवी सीरियल क्राइम पेट्रोल देखते-देखते उसके मन में इन सबको ठिकाने लगाने की साजिश ने जन्म लिया, लेकिन साथ ही उसने यह भी माना कि वह ऐसी मौत नहीं चाहती थी।

इस तरह दिया वारदात को अंजाम
– अब फरार चल रहे गीता के भाई समरदीप को भी अरेस्ट करने के बाद मंगलवार को राजस्थान पुलिस तीनों आरोपियों को अदालत से रिमांड पर लेकर सोहना उस घर में पहुंची, जहां पर पूरी वारदात को अंजाम दिया गया था।
– आरोपियों ने मर्डर मिस्ट्री को खोलते हुए बताया कि सास पुष्पा का मर्डर रात 10 बजे, ज्येष्ठ पंकज का मर्डर रात साढ़े 11 बजे व ससुर को रात ढाई बजे गला रेतकर हत्या की गई। इसके बाद शवों को अलग-अलग बोरे में भरकर बाथरूम में रखा गया, जिन्हें ठिकाने लगाने के लिए तीनों गाड़ी में डालकर ले गए।
– जेठ पंकज के शव को मेवात जिले के नगीना थाना छेत्र में डालकर आग लगाई तो शव पुष्पा व सतपाल को राजस्थान के रामगढ़ छेत्र के चंडीगढ़ गाव के पास डालकर शवों आग के हवाले किया गया था। इसके लिए आरोपी सोहना से ही 15 लीटर पेट्रोल, 5-5 की 4 रस्सियां और बोरे साथ खरीदकर ले गए थे।
– जांच अधिकारी ने यह भी बताया कि घर के नौकर विकास ने 2 लाख रुपए के लालच में आकर तो गीता ने पति की मौत का दोषी इन सब को मानती थी, उससे परेशान होकर गीता ने इस वारदात को अंजाम दिया है। भाई का कहना है कि उसने मजबूरी में साथ दिया।

टोल के सीसीटीवी कैमरे से हुई थी कार की पहचान
– पुलिस के मुताबिक शनिवार को गांव के रहने वाले रणवीर सिंह ने बताया कि एक काले रंग की कार को उसने मौके से जाते देखा था।
– पुलिस ने पड़ताल कर सोहना-अलवर रोड पर रामगढ़ के पास के टोल से कार की पहचान की और कार मालिक शुभम तक जा पहुंची। कार मालिक ने पुलिस को पूरी कहानी बताई, जिसके बाद वारदात का खुलासा हुआ।
एटीएम से निकाले थे डेढ़ लाख रुपए, एक लाख बरामद
– थाना प्रभारी अजीत सिंह बड़सरा के अनुसार हत्या के तीसरे मुख्य आरोपी समरदीप चौहान बहन के ससुर का एटीएम लेकर फरार हो गया देहरादून पहुंचने के बाद इस एटीएम से डेढ़ लाख रुपए निकाल लिए। इसमें दस हजार रुपए आरोपी समरदीप ने अपनी प्रेमिका पर खर्च कर दिए, जबकि शेष एक लाख रुपए एटीएम कार्ड के साथ उसे देहरादून की होटल राज गैलेक्सी से गिरफ्तार कर लिया गया।