दिल्ली-मुंबई के बीच नई राजधानी एक्सप्रेस शुरू होगी, सफर में बचेंगे 4 घंटे

357
नई दिल्ली.नई दिल्ली और मुंबई के बीच दिवाली पर नई राजधानी एक्सप्रेस लॉन्च हो सकती है। इस रूट पर ये तीसरी राजधानी ट्रेन होगी। रेलवे के एक अफसर के मुताबिक- इस ट्रेन के शुरू होने के बाद बांद्रा (मुंबई) से निजामुद्दीन (दिल्ली) का सफर 13 घंटे में पूरा किया जा सकेगा। फिलहाल, इसमें 15 से 17 घंटे लगते हैं। रेलवे ने एक और फैसला ट्रायल के तौर पर शुरू कर रही है। अब पांच जोन में तीन महीने तक कोच पर रिजर्वेशन चार्ट चिपकाना बंद किया जाएगा। दिल्ली-मुंबई के मुसाफिरों को नई सहूलियत…
– न्यूज एजेंसी बातचीत में रेलवे के एक अफसर ने नई राजधानी ट्रेन के बारे में जानकारी दी। इस अफसर ने बताया- नई राजधानी इसी साल दिवाली पर लॉन्च करने की प्लानिंग है। इसके शुरू होने के बाद दिल्ली और मुंबई के बीच का सफर 13 घंटे में पूरा किया जा सकेगा।
– फिलहाल, इस रूट पर दो राजधानी एक्सप्रेस चल रही हैं। पहली है- अगस्त क्रांति राजधानी और दूसरी मुंबई सेंट्रल से नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस।
– दोनों को ही यह दूरी तय करने में 15 घंटे से ज्यादा लगते हैं।

कितनी दूरी और कितना वक्त?

– अगस्त क्रांति 17 घंटे 5 मिनट में दिल्ली से मुंबई (1,377 किलोमीटर) का सफर पूरा करती है। इसकी एवरेज स्पीड 80 kmph है।
– मुंबई सेंट्रल-नई दिल्ली (इसे आमतौर पर मुंबई राजधानी एक्सप्रेस कहा जाता है।) राजधानी 1386 किलोमीटर दूरी 15 घंटे और 35 मिनट में पूरा करती है। इसकी एवरेज स्पीड 89 kmph है।
– इस अफसर के मुताबिक- ट्रायल रन एक या दो दिन में शुरू कर दिया जाएगा। हम फिलहाल, दो इंजन और 24 कोच वाला रैक इस्तेमाल करके ये जांचने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या सफर पूरा करने का वक्त कुछ घंटे कम किया जा सकता है।

नई राजधानी के लिए क्या प्लान?

– रेलवे के ही एक सूत्र ने बताया कि नई राजधानी में 14 कोच और सिंगल इंजन लगाने पर विचार किया जा रहा है। इससे स्पीड बढ़ाने में मदद मिलेगी। इस अफसर का कहना है कि हम दोनों ही ऑप्शन पर विचार कर रहे हैं।
– मुंबई राजधानी के लिए जो स्पीड मंजूर की गई है वो 130 kmph है। लेकिन, इस ट्रैक पर कई मोड़ हैं और इसकी वजह से रफ्तार कम रखनी पड़ती है। ज्यादातर यह 89 kmph के आसपास ही होती है। इस वजह से वक्त ज्यादा लगता है।
– रेलवे इसे 90 से 95 kmph करना चाहती है। नए कोचेस को इस तरीके से डिजाइन किया गया है कि ये 150 kmph पर भी आराम से रन कर सकते हैं। हालांकि, रेलवे 130 kmph स्पीड रखने पर फोकस कर रही है।

कोच पर रिजर्वेशन चार्ट नहीं

– रेलवे अब अपने पांच जोन में कोच (बोगी) पर रिजर्वेशन चार्ट लगाना बंद करने जा रही है। फिलहाल, इन पांचों जोन में इसे ट्रायल के तौर पर शुरू किया जा रहा है।
– नई दिल्ली, हजरत निजामुद्दीन, मुंबई सेंट्रल, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, चेन्नई सेंट्रल, हावड़ा और सियालदह से चलने वाली ट्रेनों में अब कोच के गेट के नजदीक रिजर्वेशन चार्ट नहीं लगाए जाएंगे। पैसैंजर्स से मिले फीडबैक के बाद इस पर अगला फैसला लिया जाएगा।