राजस्थान के स्कूल में डायरेक्टर और टीचर्स ने किया स्टूडेंट का रेप, प्रेग्नेंट हुई तो अबॉर्शन कराया

565
सीकर.राजस्थान के स्कूल में 18 साल की स्टूडेंट के साथ रेप का मामला सामने आया है। आरोप है कि स्कूल डायरेक्टर और एक टीचर ने लड़की को एक्स्ट्रा क्लास के बहाने बुलाकर दो महीने तक रेप किया। इतना ही नहीं जब वह प्रेग्नेंट हो गई तो डॉक्टर्स के साथ मिलकर चुपके से उसका अबॉर्शन भी करा दिया। विक्टिम के भाई ने अजीतगढ़ थाने में केस दर्ज कराया है। फिलहाल दोनों आरोपी फरार हैं। घटना के बाद से लड़की सदमे में है और जयपुर के एक हॉस्पिटल में भर्ती है। घटना के बाद लड़की ने स्कूल छोड़ा…
– पुलिस के मुताबिक, लड़की 12th क्लास में पढ़ती है। आरोपी टीचर उसे एक्स्ट्रा क्लास के बहाने स्कूल बुलाकर रेप करते थे। ऐसा करीब दो महीने से चल रहा था। घटना के बाद लड़की गुमसुम रहने लगी थी। इसके बाद उसने 20 अगस्त से स्कूल जाना छोड़ दिया।
– उसका एक भाई भी इसी स्कूल में पढ़ता है। एक दिन आरोपी टीचर्स ने उससे पूछा कि तुम्हारी बहन स्कूल क्यों नहीं आ रही है। इसके बाद लड़की ने अपनी मां को बताया कि उसके पेट में दर्द है।
डॉक्टर्स के ऑपरेशन के नाम पर किया अबॉर्शन
– आरोप है कि 25 अगस्त को लड़की की मां और बड़ा भाई उसे लेकर हॉस्पिटल पहुंचे। खबर मिलते ही दोनों आरोपी भी वहां आ गए। वे फैमिली को बहला-फुलसाकर अपने करीबी डॉक्टर के पास ले गए। जहां आरोपियों ने डॉक्टर्स से पहले ही अबॉर्शन के लिए बात कर ली थी।
– आरोप है कि यहां डॉक्टर्स ने लड़की की फैमिली से कहा कि उसके पेट में गंभीर बीमारी है, फौरन ऑपरेशन करना पड़ेगा। घबराई मां ने जल्दबाजी में सभी कागजों पर साइन कर दिए। इसके बाद स्कूल डायरेक्टर के कहने पर डॉक्टर्स ने लड़की का अबॉर्शन कर दिया।
– यहां से छुट्टी मिलने के बाद लड़की घर आ गई, लेकिन 4 सितंबर को अचानक उसकी हालत बिगड़ने लगी। जब मां और भाई उसे हॉस्पिटल लेकर जा रहे तो लड़की ने भाई को पूरी घटना बताई। फिलहाल वह जयपुर के हॉस्पिटल में भर्ती है और सदमे से बाहर आने की कोशिश कर रही है।
पुलिस ने क्या बताया?
– अजीतगढ़ थाना इंचार्ज मंगलाराम ओला ने बताया कि रविवार रात लड़की के भाई की शिकायत पर स्कूल डायरेक्टर जगदीश यादव और टीचर जगत सिंह गूजर के खिलाफ गैंगरेप का केस दर्ज किया है। जांच में पता चला है कि आरोपियों ने डॉक्टर्स के साथ सांठगांठ कर लड़की का अबॉर्शन कराया।
– केस दर्ज कराने में देरी हुई है क्योंकि लड़की की फैमिली इलाज के लिए हॉस्पिटल में थी। आरोपियों के खिलाफ आईपीसी- 376, 313, 201, 120 के तहत मामला दर्ज किया है। दोनों आरोपियों की तलाश में तीन टीमें छापेमारी कर रही हैं। पुलिस डॉक्टर्स से भी पूछताछ कर रही है।