सड़क दुर्घटना में मध्यप्रदेश दूसरे नंबर पर…..! चोकिये मत ,देखिये आकडे …..?

958

जबलपुर। मप्र में सड़क हादसे तेजी से बढ़ रहे हैं। देश में प्रदेश का नंबर दूसरा है। 2016 में 57853 लोग सड़क हादसे का शिकार हुए। ये साल 2015 से 2058 ज्यादा था। प्रदेश में सबसे ज्यादा हादसे लापरवाहीपूर्वक वाहन को ओवरटेक करने से हुए। केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय की रिपोर्ट में साल 2016 में हुई सड़क दुर्घटना के आंकड़े जारी हुए हैं।

साफ मौसम में हादसे

खराब मौसम की वजह से मप्र में बहुत कम हादसे हुए। हादसों की वजह खराब सड़क और ट्रैफिक नियमों की अनदेखी रही। यही वजह है प्रदेश में कुल सड़क हादसों में 44,433 में मौसम साफ था। कोहरे की वजह से सिर्फ 1307 सड़क हादसे हुए।

ओवरटेक करने से ज्यादा घायल

मप्र में ओवरटेक करने की वजह से सबसे ज्यादा लोग दुर्घटना में घायल हुए। हालांकि सबसे ज्यादा 4589 दुर्घटना की की मूल वजह कुछ और थी। दूसरे नंबर पर ओवरटेक की वजह से ज्यादा हादसे हुए। लेकिन इसमें सबसे ज्यादा घायल ओवरटेक करने से ही हुए। मोबाइल पर बात करने की वजह से प्रदेश में 129 दुर्घटना हुई। इसमें 43 मौत हुई।

खराब सड़क से 993 हादसे

मप्र में खराब सड़कों की वजह से सबसे ज्यादा 993 हादसे हुए। इसमें 171 मौत हुई। कमजोर रोशनी की वजह से 542 हादसे हुए। 484 हादसों में सड़क की खराब इंजीनियरिंग वजह बनी।

नई नवेली गाड़ी से ज्यादा मौत

प्रदेश में 2016 की रिपोर्ट में 5 साल से कम मॉडल के वाहनों से 26749 हादसे हुए। इसमें 4792 मौत हुई। जबकि घायल 28238 हुए। नये वाहन से मप्र में सबसे ज्यादा।

ट्रक से सबसे ज्यादा हादसे

मप्र में भारी वाहन-डम्पर से सबसे ज्यादा सड़क हादसे हुए। इसमें 1831 लोगों की मौत हुई। वहीं वाहनों की सामने से टक्कर ज्यादा हुई। सीधी टक्कर के 14450 मामलें में 2777 मौत हुई। जबकि घायल 14868 हुए।

हेलमेट और सीट बेल्ट नहीं बांधने से हादसे

हेलमेट नहीं पहनने की वजह से 345 मौत हुई। इन्होंने वाहन चलाते वक्त हेलमेट नहीं पहना था। वहीं सीट बेल्ट नहीं बांधने की वजह से 206 मौत मप्र में हुई।

इंदौर में ज्यादा मौत

– जबलपुर में 2016 में 3256 हादसे हुए। इसमें 352 लोगों की मौतें हुईं। इंदौर में 5143 हादसों में 431 मौत हुई। ग्वालियर में 1993 हादसे में 244 मौत हुई।

-मप्र में 15102 दुर्घटना में वाहन चलाने वाले की उम्र 25-35 के बीच थी। 2325 हादसों में 18 साल से कम उम्र वाले ड्राइवर थे।

-हादसों में मौत में उप्र अव्वल, मप्र 6वें नंबर पर- 2016 में 9646 मौत 2015 की तुलना में 332 मौत अधिक।

-सड़क दुर्घटना में घायल होने में मप्र दूसरे नंबर में- 2016 में 57853 लोग घायल हुए। ये 2015 की तुलना में 2058 ज्यादा है।

– टॉप पांच सिटी में चैन्न्ई अव्वल। मप्र के इंदौर ने मुबंई और कोलकाता को पीछे छोड़ दिया। इंदौर चौथे नंबर में यहां 5143 सड़क हादसे हुए।

– मप्र के भीतर ग्रामीण क्षेत्र में सड़क दुर्घटना शहरी इलाकों से कम हुई। मौत के मामले में आंकड़ा ग्रामीण क्षेत्रों का ज्यादा है। शहरों में 28978 दुर्घटना में 3541 मौत और ग्रामीण में 24994 में 6105 मौतें हुईं।

– 2016 में दुर्घटना के वक्त 44822 लाइसेंसधारी थे। 6068 के पास लर्निग लाइसेंस था। वहीं 3082 हादसों में वाहन चालक के पास लाइसेंस ही नहीं था।

-7568 हादसे वाहनों की ओवरलोडिंग की वजह से हुए। इसमें 1059 मौत हुई।