जानें पाकिस्‍तान और चीन की सैन्‍य ताकत के आगे कहां ठहरता है भारत

420

भारत किसी मिसाइल का परीक्षण करता है, तो एक नई चर्चा शुरू हो जाती है. चर्चा इस बात की कि सैन्य ताकत के मामले में हम अपने पड़ोसी पाकिस्तान और चीन के मुकाबले कहां पहुंचे ब्रह्मोस 2 ने कई मामलों में भारत को पाकिस्तान के आगे और चीन की टक्कर में ला खड़ा किया.

थल सेना की बात करें तो चीन के पास सबसे ज़्यादा 23 लाख लड़ाकू सैनिक हैं. भारत के पास 13 लाख सैनिक हैं, जबकि पाकिस्तान के पास 10 लाख थल सैनिक हैं. चीन के पास करीब 1800 लड़ाकू विमान हैं

ऐसे ही हथ्‍िायारों की बात करें तो चीन के पास करीब 1800 लड़ाकू विमान हैं। इनमें जे-11, जे-10, सुखोई-30 और जेएच-7 जैसे फाइटर प्लेन शामिल हैं.

जबकि भारत के पास करीब 1000 लड़ाकू विमान हैं. जिनमें सुखोई, मिराज, मिग-29, मिग-27, मिग-21 और जगुआर शामिल हैं. वहीं पाकिस्तान के पास करीब 500 लड़ाकू विमान हैं, जिनमें चीनी एफ-7, अमेरिकी F-16 और मिराज शामिल हैं.

मिसाइलों की बात करें तो चीन के पास 13 हज़ार किलोमीटर रेंज वाली डांग फेंग-5 और इसी सीरीज की दूसरी मिसाइलें हैं. भारतीय सेना के बेड़े में सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस, अग्नि, पृथ्वी, आकाश और नाग जैसे मिसाइल हैं

पाकिस्तान की बात करें तो उसके पास गौरी, शाहीन, गजनवी, हत्फ और बाबर जैसे मिसाइल हैं। जानकारों का कहना है कि ब्रह्मोस की तकनीक सबसे आधुनिक है और इस 5 मिनट में दागने के लिए तैयार किया जा सकता है। ब्रह्मोस ने भारत की ताकत बढ़ाई है लेकिन अभी भी चीन से काफी पीछे हैं.

युद्धपोत के मामले में भी चीन भारत से आगे है. चीन के पास 75 युद्धपोत हैं, तो भारत के पास 27 युद्धपोत हैं. जबकि पाकिस्तानी के पास 11 युद्धपोत हैं.

परमाणु हथियारों के मामले में भी चीन हमसे काफी आगे है. चीन के पास 150 से 200 परमाणु हथियार हैं. भारत के पास 50 से 90 परमाणु हथियार हैं। पाक सेना के पास 50 से ज्यादा परमाणु हथियार हैं.