जेल में फांसी पर झुला डेरा समर्थक, पंचकूला हिंसा के दौरान हुआ था गिरफ्तार

888
चंडीगढ़.हरियाणा की अंबाला सेंट्रल जेल में एक डेरा सपोर्टर ने सुसाइड कर लिया। रविवार को उसकी बॉडी टायलेट में फंदे पर लटकी मिली। पुलिस ने उसे पंचकूला में हिंसा भड़काने के मामले में गिरफ्तार किया था। 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने डेरा चीफ गुरमीत राम रहीम को साध्वियों से रेप का दोषी करार दिया था। इसके बाद पंचकूला में डेरा सपोर्टर हिंसक हो गए थे। पुलिस और सिक्युरिटी फोर्स के साथ हुई झड़पों में 42 लोगों की मौत हुई। राम रहीम फिलहाल रोहकत जेल में सजा काट रहा है, कोर्ट ने उसे 20 साल की सजा सुनाई है। जेल अफसरों से जांच के ऑर्डर दिए…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अंबाला के एसपी अभिषेक जरवाल ने बताया कि मरने वाले शख्स की पहचान रविंद्र कुमार (28 साल) के तौर पर हुई है। वह यूपी के सारसवा का रहने वाला था। रवींद्र डेरा अनुयायी और पंचकूला में हुई हिंसा में शामिल था, उसे पुलिस ने मौके से गिरफ्तार किया था। इसके बाद उसे ज्यूडीशियल रिमांड पर अंबाला जेल में रखा गया।
– रविवार को रवींद्र के एक साथी ने उसकी बॉडी टायलेट में लटकी देखी। इसके बाद जेल एडमिनिस्ट्रेशन और पुलिस को सूचना दी गई। घटना को लेकर जेल अफसरों ने जांच के ऑर्डर दिए हैं। जेल में बंद डेरा सपोर्टर्स पर कड़ी नजर रखी जा रही है।
अब तक हनीप्रीत का सुराग नहीं
– राम रहीम की कथित बेटी हनीप्रीत रोहतक जेल से जाने के बाद गायब है। बाबा को पंचकूला कोर्ट से भगाने की साजिश के आरोप में हरियाणा पुलिस को उसकी तलाश है। उसको जेल प्रशासन ने पूरी सिक्युरिटी के साथ 25 अगस्त को फतेहाबाद के लिए रवाना किया था।
– पंचकूला में बाबा को दोषी ठहराए जाने के बाद हनीप्रीत हेलिकॉप्टर में बाबा के साथ सुनारिया जेल आई थी। यहां पर लगभग साढ़े चार घंटे रहने के बाद उसे लेने के लिए चार लोग गाड़ी में आए थे। जेल से निकलकर हनीप्रीत ने सीक्रेट मीटिंग भी की थी।
– पुलिस को बाबा की सबसे बड़ी राजदार हनीप्रीत के विदेश भागने की भी आशंका है। इस वजह से उसके लुकआउट नोटिस भी जारी किए गए हैं। हनीप्रीत की आखिरी लोकेशन जींद बाईपास की मिली है। उसके बाद से वह लापता है।
ऐसी थी बाबा को भगाने की साजिश
– बलात्कारी राम-रहीम को भगाने की साजिश गहरी और वेल प्लान्ड थी। 25 अगस्त को पंचकूला में दंगा भड़कने से पहले और बाद में पुलिस जो भी प्लान कर रही थी, उसके पल-पल की खबर बाबा के सिक्युरिटी में लगे हरियाणा पुलिस के कमांडोज को थी। राम-रहीम की जैमर गाड़ी में सरकारी वायरलेस हैंडसेट मौजूद थे।
– बाबा ने लाल रंग का सूटकेस दिखाकर कमांडोज को इशारा किया था, जिसके बाद कमांडोज ने सपोर्टरों को कॉल कर दंगा कराने की साजिश पर काम करने के लिए कहा। इसके बाद इस दस्ते ने बाबा को छुड़वाने के लिए आईपीएस अधिकारी से हाथापाई की थी। बाबा की सिक्युरिटी में तैनात 7 कमांडोज को पुलिस ने गिरफ्तार किया।