जज ने गुरमीत राम रहीम को कहा ‘जंगली जानवर’ ! और क्या कहा,देखिये ……?

867

ये सिर्फ़ 20 साल जेल की सज़ा ही नहीं थी, जो सोमवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर वज्रपात बनकर टूटी. उन्हें सीबीआई की विशेष अदालत की तीखी टिप्पणियों से भी दो-चार होना पड़ा.

दो साध्वियों से बलात्कार के 15 साल पुराने मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने उन्हें 10-10 साल यानी कुल 20 साल जेल की सज़ा सुनाई है. उन पर 30.2 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

1“दोषी (गुरमीत राम रहीम) ने एक ‘जंगली जानवर’ की तरह बर्ताव किया और अपनी ‘पवित्र’ महिला अनुयायियों को भी नहीं बख़्शा.”

2“पीड़िताओं ने गुरमीत राम रहीम को ईश्वर जैसा सम्मान दिया, लेकिन गुरमीत ने उनके साथ सबसे गंभीर क़िस्म का अपराध किया.”

3“वह शख़्स जिसे मानवता की कोई चिंता नहीं है और जिसके स्वभाव में कोई दया नहीं है, वह उदारता के लायक नहीं है.

4“धार्मिक संस्था के प्रमुख बताए जाने वाली शख़्सियतों के ऐसा आपराधिक कृत्य देश के पवित्र आध्यात्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक संस्थानों की छवि बहुत पहले से बर्बाद करते आ रहे हैं.”

5“दोषी के कामों से इस प्राचीन भूमि की विरासत को अपूरणीय क्षति हुई है.”

6“इस मामले के तथ्यों और हालात को ध्यान में रखते हुए कोर्ट को लगता है कि अगर दोषी के अपनी महिला अनुयायियों का यौन शोषण और उन्हें अंजाम भुगतने की धमकी देने की बात को मद्देनज़र रखें तो ऐसा आदमी अदालत की उदारता के क़ाबिल नहीं है.”