crime ! गूगल मैप से सेट किया टारगेट और किराए के लुटेरों से करा दी 26 किलो सोने की लूट……

1437

जयपुर। जयपुर में कुछ दिन पहले गोल्ड लोन कंपनी से लूटे गए 26 किलो सोने के आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गए है। इस लूट का मास्टरमाइंड अभी पुलिस गिरफ्त में नहीं आया है लेकिन उसकी पहचान हो गई है और जल्द ही उसकी गिरफ्तारी भी हो सकती है। इस लूट की खास बात यह थी कि इसके मास्टरमाइंड ने दिल्ली में बैठ कर गूगल मैप से गोल्ड लोन कंपनी की इस शाखा का टारगेट सेट किया और फिर कुछ नए लड़को को पैसों का लालच देकर लूट कराई।

जयपुर के मानसरोवर इलाके में 21 जुलाई को मुत्थुट गोल्ड फाइनेंस कंपनी में यह लूट हुई थी। पुलिस ने लूट में शामिल गिरोह के तीन आरोपियों को बिहार से पकड़ा है। अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर प्रफुल्ल कुमार ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी शुभम भूमिहार, पंकज विशाल कुमार है। ये तीनों बिहार के वैशाली जिले में हाजीपुर के रहने वाले है। पिछले काफी अरसे से तीनों उत्तरप्रदेश के ग्रेटर नोएडा में एक फ्लैट में किराए से रह रहे थे।

इन्होंने पूछताछ में गिरोह के दो अन्य साथी सुबोध व अन्नू के साथ मिलकर वारदात करना बताया है। इसके अलावा गिरोह में मास्टरमाइंड समेत तीन और बदमाश है जिनकी तलाश में पुलिस टीमें बाहर भेजी गई है। एडीसीपी प्रफुल्ल कुमार के मुताबिक गिरोह का मास्टरमाइंड ने गूगल मैप के जरिए जयपुर में मुत्थूट गोल्ड लोन कंपनी में डकैती करने की योजना बनाई थी। वह हर वारदात में नए लड़के गिरोह में शामिल करता है जिन्हें कुछ रुपयों का लालच देता है। मास्टरमाइंड ने जयपुर से पहले विशाखापत्तनम, नागपुर, पश्चिम बंगाल व अन्य शहरों में वारदातें की है।

मास्टरमाइंड ने गैंग में शामिल साथी पंकज की मदद से 3 अगस्त को मुत्थूट फाइनेंस कंपनी की ब्रांचों की रैकी करवाई। इसमें मानसरोवर स्थित मुत्थूट फाइनेंस कंपनी का चयन किया। इसके बाद दिल्ली जाकर अपने साथियों के साथ वारदात की योजना बनाई।

गैंग के आठ साथियों के साथ मास्टरमाइंड जयपुर के नजदीक निवाई कस्बे में एक कमरा किराए पर लिया। वहीं, करीब 18 दिन तक ठहरे। इसके बाद 21 अगस्त को दो मोटरसाइकिलों पर आठ बदमाश मानसरोवर स्थित मुत्थुट गोल्ड लोन कंपनी के आॅफिस पहुंचे। जहां चार बदमाश पिस्टल लेकर कंपनी में घुस गए और जबकि चार बदमाश कंपनी के आॅफिस के बाहर आसपास मौजूद रहे। बदमाशों ने वारदात कर 26 किलो सोना लूटा और अजमेर रोड व टोंक रोड से होकर निवाई पहुंचे। वहां गिरोह के मास्टरमाइंड ने लूटा गया सोना खुद के पास रखा और गैंग के शुभम को एक लाख तथा विक्की को पांच लाख रुपए दे दिए। इसके बाद सभी अलग-अलग रास्तों से भाग निकले। वारदात से पहले गिरोह ने आगरा से एक नई और एक पुरानी मोटरसाइकिल खरीदी। इसके बाद वे दिल्ली पहुंचे और फिर बाइक से ही टोंक व जयपुर पहुंचे।