वाक् युद्ध में कानूनी तड़का: सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भेजा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान को मानहानि का कानूनी नोटिस

953

सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरने की तैयारियों में नित्य नए चक्रव्यूह रचने वाली भारतीय जनता पार्टी के बीच अब लड़ाई महज वाक् युद्ध तक सीमित नहीं रही बल्कि अब इस लड़ाई में कानूनी तड़का भी लगने लगा है। अशोकनगर के ट्रॉमा सेंटर के उद्घाटन से शुरू हुई राजनीति अब थमने के बजाय तूल पकड़ती जा रही है ।

विधानसभा में भी कांग्रेस के सांसद प्रतिनिधि अमित डामरी के ट्रॉमा सेंटर को गंगाजल से धुलवाने वाले बयान को लेकर भाजपा ने जमकर हंगामा किया वहीं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी पलट वार करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान को लीगल नोटिस भेजते हुए वाक युद्ध की इस लड़ाई में कानूनी तड़का लगा दिया|

सिंधिया ने अपने नोटिस में नंद कुमार चौहान पर उनकी छवि को नुकसान पहुंचाने और सोशल मीडिया पर झूठे तथ्य फैलाने का आरोप लगाया है |उन्होंने इसे मानहानि मानते हुए  नोटिस भेजा है |नोटिस में कहा गया है कि सिंधिया की छवि एक किसान और दलित के साथ खड़े रहने वाले नेता की है |झूठे तथ्यों का सहारा लेते हुए उनकी छवि को नुकसान पहुंचाया जा रहा है |अशोकनगर के स्थानीय नेताओं ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके नंदकुमार चौहान के आरोपों  को गलत बताया था कि सांसद सिंधिया ने ट्रॉमा सेंटर को गंगाजल से धुलवाया था |

विदित रहे कि 22 तारीख को सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जिला चिकित्सालय के ट्रामा सेंटर का उद्घाटन किया| उससे पूर्व भाजपा के दलित समुदाय से आने वाले विधायक गोपीलाल जाटव एवं नगरपालिका अध्यक्ष सुशीला शाह ने भी इस ट्रामा सेंटर का उद्घाटन 1 दिन पहले कर दिया था| इस  उद्घाटन के बीच कांग्रेस के सांसद प्रतिनिधि अमित ताम्र ने ट्रॉमा सेंटर को गंगाजल से धुलवाकर दोबारा ज्योतिरादित्य सिंधिया से उद्घाटन करने का बयान दिया था जिस पर उन्हें पार्टी से निष्काषित निष्काषित भी कर दिया गया| इसके बाद भाजपा ने इस मुद्दे को उठाया और इसे दलितों का अपमान मानते हुए सिंधिया के खिलाफ हमला बोलना शुरू कर दिया था| इसी तारतम में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने 24 तारीख को प्रदेश भर में सिंधिया का पुतला जलाए जाने की भी अपील कर डाली थी |अभी तक यह लड़ाई सिर्फ वाक युद्ध तक सीमित थी किंतु अब इसमें कानूनी तड़का भी आ गया और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने वकील के माध्यम से मानहानि का कानूनी नोटिस नंदकुमार चौहान को जारी कर दिया| सिर्फ इतना ही नहीं नोटिस की सूचना भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान को भी दी गई है देखना यह है कि वाक युद्ध से शुरू हुई इस राजनीति में आगे कौन कौन से मोड़ आते हैं|