भारतीय महिला क्रिकेट टीम का वर्ल्ड कप जीतने का सपना एक बार फिर टूट, इंग्लैंड टीम ने किया कब्जा| जानिए ,मेच के महत्वपूर्ण लम्हे …|अंतिम 28 रन बनाने में भारतीय टीम ने गवां दिए 7 विकेट ….

558
BRISTOL, ENGLAND - JULY 12: The India side leave the field after defeat to Australia during the ICC Women's World Cup 2017 match between Australia and India at The County Ground on July 12, 2017 in Bristol, England. (Photo by Harry Trump-IDI/IDI via Getty Images)

भारतीय महिला क्रिकेट टीम का वर्ल्ड कप जीतने का सपना एक बार फिर टूट गया है. एक वक्त मैच पूरी तरह भारत की झोली में जाती दिख रही थी. लेकिन आखिरी के 10 ओवरों में मैच का रूख पलट गया और इंग्लैंड टीम ने एक बार फिर वर्ल्ड कप पर कब्जा कर लिया. इस मैच में 10 अहम टर्निंग प्वाइंट रहे जिससे भारतीय टीम जीती हुई बाजी हार गई.

1. इंग्लैंड को शुरुआती झटका: टॉस जीत मेजबान टीम ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, लेकिन भारतीय गेंदबाजी को मिली शुरुआत सफलता ने इंग्लैंड टीम की तेज शुरुआत पर कुछ हद तक ब्रेक लगा दिया. 11 से 16 ओवर के बीच में इंग्लैंड टीम को लगातार तीन झटके लगे. पूनम यादव ने दो तो राजेश्वरी गायकडवाड़ ने एक विकेट झटककर इंग्लैंड को बड़े स्कोर से रोका.

2. सारा टेलर और नताली स्काइवर की जोड़ी टूटना: 16वें ओवर में झटके के बाद इंग्लैंड के खिलाड़ियों के पैर जमाने की कोशिश की और स्कोर में एक-एक कर रन बढ़ने लगे, स्कोरबोर्ड में इंग्लैंड के 3 विकेट 146 रन जा पहुंचा. इस बीच सारा टेलर और नताली स्काइवर के बीच चौथे विकेट के लिए 83 रन की पार्टनरशिप हो गई. लेकिन फिर 33 ओवरों में इस जोड़ी को झूलन गोस्वामी ने तोड़ डाला. इस जोड़ी को तोड़ना भारत की जीत के एक तरह से टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ. 33वें ओवर में ही भारतीय गेंदबाजी झूलन ने टेलर (45) को भी सुषमा वर्मा के हाथों कैच करा दिया.

3. 33वें झूलन गोस्वामी की यादगार गेंदबाजी: 33वें ओवर में झूलन ने लगातार दो गेंदों पर दो विकेट झटके, पहले भारत के लिए सिर दर्द साबित हो रहीं सारा टेलर को आउट किया और फिर अगली ही गेंद पर नई बैट्समैन फ्रेन विल्सन को क्रीज से चलता किया. जिससे मैच में एक बार भारतीय टीम जोरदार तरीके से वापसी की, और फिर इंग्लैंड की टीम पर कुछ देर के लिए खुलकर खेलने पर ब्रेक लग गया, जिससे स्कोर 228 तक ही पहुंच पाया.

4. नताली स्काइवर का आउट होना: सारा टेलर और नताली स्काइवर के बीच चौथे विकेट के लिए 83 रन की पार्टनरशिप की.  सारा टेलर के आउट होने के बाद नताली स्काइवर खुलकर खेलने लगीं और फिर ये विकेट लेना भारतीय टीम के लिए जरूरी हो गया था. ऐसे में एक बार फिर 37.1 ओवरों में नताली स्काइवर (51) के रूप में भारत में छठी सफलता मिली. ये विकेट भी झूलन गोस्वामी के झोली में गईं.

5. इंग्लैंड के स्कोरबोर्ड 228 रन: आखिरी के 10 ओवरों में इंग्लैंड की टीम ने तेजी से रन बनाने की कोशिश की. कैथरीन ब्रंट तेजी से रन जुटा रही थीं, तभी 46वें ओवर में कैथरीन को 34 रन पर दीप्ति शर्मा ने रन आउट कर दिया. सातवां विकेट गिरने के बाद इंग्लैंड की टीम ने रन बनाने के बजाय पूरे ओवर खेलने पर अपना फोकस दिया, जिससे स्कोर 230 से ऊपर नहीं पहुंच पाया.

6. भारत को शुरुआती झटका: 228 रन का पीछा करने उतरी भारतीय महिला टीम को दूसरे ही ओवर में स्मृति मंधाना बिना खाता खोले आउट हो गईं. जिससे ओपनिंग में भारत टीम को जो रफ्तार मिलनी चाहिए थी वो नहीं मिल पाई.

7. तीसरे विकेट की शानदार साझेदारी: स्मृति मंधाना का विकेट गिरने के बाद हरमनप्रीत कौर और पूनम राउत ने भारतीय पारी को आगे बढ़ाया. दोनों के बीच तीसरे विकट के लिए 95 रनों का पार्टनरशिप हुई, जिससे भारत की राह आसान हुई.

8. मिताली राज का राउट होना: पूनम राउत के 85 रन पर आउट होने के बाद एक वक्त पूरी तरह से मैच भारत की पकड़ में आ गई थी. जिसके बाद मिताली राज 17 रन बनाकर आउट हो गईं और फिर इंग्लैंड टीम से भारतीय टीम के रन बनाने के रफ्तार पर ब्रेक लगा दिया. इसके बाद हरमनप्रीत कौर के तेज रन बनाने की जिम्मेदारी संभाली और फिर शानदार 51 रनों की पारी खेली.

9. लगातार विकेट गिरना: हरमनप्रीत कौर के आउट होने के बाद टीम इंडिया की राह आसान लग रही थी. लेकिन 42वें ओवर के बाद लगातार एक-एक बाद चार विकेट गिर गए. जिससे भारतीय टीम बैकफुट पर आ गई और प्रशंसकों में मायूसी छा गई.

10. 42वें ओवर में झटके के बाद भारतीय टीम उबर नहीं पाई. इंग्लैंड की अन्या श्रब्सोल ने 46 रन देकर 6 विकेट झटकर मैच भारत से छीन लिया. आखिरी के 28 रन बनाने में भारतीय टीम ने 7 विकेट गवां दिए. जिसके बाद पूरी टीम 219 रन पर ऑल आउट हो गई. और मैच 9 रन से भारतीय टीम मैच हार गई.