मत्स्य आखेट पर लगे प्रतिबंध के बाबजूद मछली माफिया सक्रिय

1363

*प्रजनन काल में भी सक्रिय करैरा में मछली माफिया*

*बड़ी तादाद में हो रहा हे मत्स्य आखेट*

*करैरा शिवपुरी* ..मछलियों की बंश बृद्धि को ध्यान में रखते हुये जिला प्रशासन ने भले ही पूरे जिले में मत्स्य आखेट मत्स्य बिक्रय एवं मत्स्य परिब हन पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया हे। लेकिन करैरा अनुबिभाग के अंतर्गत स्थित जलाशयों में आज भी मछली माफिया सक्रिय हें और बड़ी तादाद में मछलियों को पकड़कर उनका जिले से बाहर व अनुबिभाग में परिबहन किया जा रहा हे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बर्षाकाल मछलियों का प्रजनन काल माना जाता हे। क्यों की बारिश के इन दिनों में मछलियाँ अंडे देती हे। बताया गया हे की एक एक मछली लाखों और करोड़ों की संख्या में अंडे देकर बंश बृद्धि करती हे। इसी बात को दृष्टिगत रखते हुये राज्य शासन की मंशा के अनुरूप हर साल जिला प्रशासन द्वारा मत्स्य आखेट मत्स्य बिक्रय एवं मत्स्य परिबहन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया जाता हे। लेकिन हर साल की तरह इस बार भी शिवपुरी जिले की सबसे बड़ी तहसील करैरा के अनुबिभाग में सक्रिय मछली माफियाओं की सक्रियता के आगे प्रशासन द्वारा मत्स्य आखेट पर लगाया गया प्रतिबंध बेअसर साबित हो रहा हे ।
सूत्र बताते हे कि बर्षाकाल में मछलियाँ चूँकि अंडे देती हे इसलिये इन दिनों मछलियों की कीमत बढ़कर डेढ से दो गुना हो जाती हे ।क्यों की इन दिनों अधिकांश मछलियों के पेट में बड़ी तादाद में अंडे निकलते हे और इन अंडो को लोग बड़े चाव से खाते हे जो खाने में काफी स्वादिष्ट लगते हे ।
सूत्रों की माने तो बिभागीय और प्रशासनिक अधिकारियों की मिली भगत से करैरा अनुबिभाग में मछलियों का कारोबार करने बाले लोग इन दिनों सम्मोहा डेम .डुमघना डेम .बॉसगढ़ तालाब .दिनारा तालाब. दिहालया झील. महुअर नदी .सिंध नदी सहित अन्य नदी व नालों में मत्स्य आखेट करते हुये कभी भी देखे जा सकते हें।बताया गया हे कि इन मछली माफियाओं के द्वारा मैजिक मेटाडोर ट्रक आदि में लादकर बड़ी तादाद में मछलियाँ झांसी कानपुर एवं ग्वालियर आदि शहरों की मंडियों में भेजी जा रही हे । सूत्र तो यहाँ तक बताते हे कि मछली माफियाओं द्वारा मत्स्य बिभाग के अधिकारियों से लेकर स्थानीय पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों को किसी न किसी रूप में हर माह उपकृत किया जाता हे ।सम्भवतः यही कारण हे की सब कुछ जानते हुये भी अधिकारी गण मछलियों की बंश बृद्धि में घातक साबित हो रहे हे ।

SHARE
Previous articleहिन्दू धर्म मे दाह संस्कार क्यों
Next articlebhopal-सातवें वेतनमान की अधिसूचना जारी, अगस्त से मिलेगा वेतन
वरिष्ठ पत्रकार अखिलेश दुबे मूलतः शिवपुरी (करेरा ) के निवासी है और पत्रकारिता में लम्बा अनुभव रखते है| श्री दुबे पत्रकार हितो के लिए सदेव समर्पित रहते है | www.khabaraajkal.com परिवार में वे बतौर ''सह संपादक '' अपने दायित्वों का बखूबी निर्वहन कर रहे है एवं पोर्टल के संस्थापक सदस्यों में से एक है | ''khabaraajkal.com परिवार सदेव उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है ...|