:खरगोन से पकड़े गए नकली नोट गिरोह के 3 सदस्य…सरगना फरार

466

भोपाल।बैतूल में नकली नोट के गोरखधंधे में लिप्त गिरोह के 3 और सदस्यों को पुलिस ने पकड़ने में सफलता हासिल की है। इन लोगों को पुलिस ने खरगौन से गिरफ्तार किया है। इससे पहले 18 जून को इस गिरोह के 2 सदस्यों को मिलानपुर स्थित टोल बेरियर पर वहां के कर्मचारी की सक्रियता से गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद बैतूल पुलिस और इंदौर क्राइम ब्रांच ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए यह गिरफ्तारियां की है। हालांकि गिरोह का सरगना अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा है। उसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है।मिलानपुर टोल बेरियर पर विगत 18 जून को एक सफारी से नागपुर की ओर जा रहे 2 लोगों ने टोल चुकाने के लिए जो नोट दिया था वह नकली था। इस पर टोल कर्मचारी दीपक परिहार ने सक्रियता दिखाते हुए पुलिस को सूचित किया। बैतूल बाजार पुलिस ने तत्काल मौके पर पहुंच कर महाराष्ट्र निवासी राजू भास्कर राव इंगोले और गुणवंत को गिरफ्तार किया था। इनसे पूछताछ के बाद गिरोह के अन्य सदस्यों को भी गिरफ्तार करने के लिए विशेष टीम बनाई गई थी। यह टीम इंदौर पहुंची और क्राइम ब्रांच का सहयोग लेकर अन्य आरोपियों तक पहुंचने में सफल हुई।क्राइम ब्रांच और बैतूल पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई की और सबसे पहले खरगौन जिले के धनपाड़ा निवासी प्रल्हाद पिता भूजराजी गुजर (29) को गिरफ्तार किया। इसके पास से पुलिस ने 500 और 100 रुपए के नकली नोट भी बरामद किए। इसके बाद पुलिस ने खरगौन जिले के रतनपुर बड़वाह निवासी पंकज तथा अनिल को गिरफ्तार किया है।

इनसे मिलते थे इन्हें नोट

कपड़े गए आरोपी प्रल्हाद गुर्जर ने पुलिस को बताया है कि खरगौन जिले के ही ग्राम टोंकसर का नारायण ठाकुर इस कारोबार का सरगना है। उसी के माध्यम से उन्हें यह नकली नोट मिलते हैं। यह सूचना मिलने के बाद पुलिस ने उसकी पतासाजी के प्रयास भी शुरू कर दिए हैं। हालांकि वह अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया है और फरार चल रहा है। पुलिस के अनुसार जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ऐसे आए थे सम्पर्क में

आरोपियों में से पंकज हम्मद खरगौन में खाद-बीज की बिक्री करता है। इसी के चलते वह महाराष्ट्र के राजू के सम्पर्क में आया था और इस गोरखधंधे से उसे भी जोड़ लिया गया था। पंकज का बड़ा भाई गांव में खेती-बाड़ी करता है। प्रल्हाद गुर्जर की किराना की दुकान है। यह सभी लोग अपने मूल धंधे के साथ-साथ ही नकली नोट खपाने का भी धंधा करते थे। इससे किसी को इन पर संदेह भी नहीं हो पाता था।

जून में पकड़ाए 22 हजार रुपए

इस गिरोह के पुलिस के हत्थे चढ़ने की शुरूआत पिछले महीने ही हुई थी। विगत 18 जून को टाटा सफारी वाहन क्रमांक एमएच-43/वी-1974 जब नागपुर की ओर जा रही थी तो चालक राजू भास्कर राव इंगोले ने 2000 का नोट टोलकर्मी को दिया। टोलकर्मी ने नोट चेक किया तो वह नकली पाया। इस पर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस टाटा सफारी वाहन में सवार दोनों लोगों को बैतूल बाजार थाना ले गई। वाहन की तलाशी लेने पर उसमें से 22251 रुपए के नकली नोट मिले थे। इस पर टाटा सफारी में मौजूद दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था।