गूगल पर सबसे बड़ा जुर्माना: सर्च रिजल्ट में गड़बड़ी की, अब देने होंगे 2.4 अरब यूरो

651

गूगल को बड़ा झटका देते हुए यूरोपीय संघ ने उस पर इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना ठोका है. यूरोपीय संघ ने गूगल पर 2.4 अरब यूरो (करीब 175 अरब रुपए) का रिकॉर्ड जुर्माना लगाया है. कंपनी पर भरोसे के हनन के लिए यह जुर्माना लगाया गया है.

गूगल पर यह जुर्माना सर्च रिजल्ट में गड़बड़ी के जरिए अपनी शॉपिंग सेवा को गलत तरीके से लाभ पहुंचाने के दोष में लगाया गया है.

यूरोपीय प्रतिस्पर्धा आयोग की प्रमुख मार्गेट वेस्टेगर ने कहा कि गूगल ने दुनिया के सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन के रूप में अपनी प्रभावशाली स्थिति का दुरुपयोग किया और अपनी ही शॉपिंग सेवा को गैरकानूनी तरीके से लाभ पहुंचाया. वेस्टेगर ने बयान में कहा, ‘गूगल ने जो किया है वह ईयू के एंटीट्रस्ट नियमों के खिलाफ है. इसने अन्य कंपनियों को पात्रता के आधार पर प्रतिस्पर्धा और इनोवेशन से रोका.’ इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि कंपनी ने यूरोप के उपभोक्ताओं को सेवाओं के उचित विकल्प और आंत्रप्रेन्योरशिप का पूरा फायदा उठाने से वंचित किया.

इस तरह के मामलों में यह जुर्माना एक रिकॉर्ड है. इससे पहले अमेरिकी चिप कंपनी इन्टेल पर 1.06 अरब यूरो का जुर्माना लगाया गया था. करीब एक साल पहले वेस्टेगर ने दुनिया और अमेरिका को झटका देते हुए आईफोन कंपनी ऐपल को आयरलैंड में 13 अरब यूरो के कर के पुनर्भुगतान का आदेश दिया था.

गूगल के लिए यह बड़ा झटका है. फेसबुक और अन्य कंपनियों से प्रतिस्पर्धा कर रही गूगल की बड़ी कमाई शॉपिंग सेवाओं से आती है. कंपनी पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नाराजगी झेल रही है.