मुक्केबाज अंकुश ने स्वर्ण पदक हासिल किया, देवेंद्रो को रजत

544

नई दिल्ली। उभरते मुक्केबाज अंकुश दहिया (60 किग्रा) ने मंगोलिया में उलान बटोर कप के अंतिम दिन स्वर्ण पदक हासिल किया, जबकि अनुभवी एल देवेंद्रो सिंह (52 किग्रा) ने रजत पर कब्जा जमाया।

एशियाई युवा खेलों के रजत पदक विजेता 19 वर्षीय अंकुश ने फाइनल में कोरिया के मैन चोए चोल को मात दी, वहीं देवेंद्रो को इंडोनेशिया के एल्डम्स सुगुरो से हार का सामना करना पड़ा। भारत ने टूर्नामेंट में इस तरह एक स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य पदक जीते। के श्याम कुमार (49 किग्रा), मुहम्मद हुसामुद्दीन (56 किग्रा) और प्रियंका चौधरी (महिला, 60 किग्रा) को अपने-अपने सेमीफाइनल मुकाबले गंवाने के बाद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

राष्ट्रमंडल खेलों के रजत और एशियाई चैंपियनशिप के स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्रो रविवार को भारत की ओर से रिंग में उतरने वाले पहले मुक्केबाज थे। अपनी फॉर्म में वापसी का प्रयास कर रहे मणिपुर के मुक्केबाज ने शुरुआत से ही अपने प्रतिद्वंद्वी को कोई मौका नहीं दिया। उन्होंने बेहतरीन मुक्केबाजी का प्रदर्शन किया और सुगुरो को एक बार भी अपने पर हावी होने का मौका नहीं दिया। हालांकि भारतीय प्रशंसकों को तब निराशा हुई, जब निर्णायकों ने 3-2 से सुगुरो के पक्ष में फैसला दिया।

हालांकि थोड़ी देर बाद ही अंकुश ने स्वर्ण जीतकर निराशा को जश्न में बदल दिया। अंकुश ने अपनी लंबाई का फायदा उठाया और मुकाबले को अपने पक्ष में मोड़ने में कामयाब रहे। यह सीनियर स्तर पर उनका पहला अंतरराष्ट्रीय पदक है।