Madhya Pradesh News : शिवपुरी में अम्बानी ग्रुप लगा सकता है कारतूस फैक्‍टरी …! अनिल अंबानी समूह ने 400 करोड़ रुपए के निवेश का दिया प्रस्ताव,11 दिसम्बर को कमलनाथ सरकार की निवेश प्रोत्साहन कैबिनेट कमेटी की बैठक में होगा निर्णय ।

594

भोपाल।  अनिल धीरूभाई अंबानी समूह मध्यप्रदेश के शिवपुरी में कारतूस (आयुध) फैक्टरी लगा सकता है। इसके लिए कंपनी ने 400 करोड़ रुपए के निवेश का प्रस्ताव दिया है। प्रदेश का उद्योग विभाग कंपनी को शिवपुरी में जमीन भी दिखा चुका है। निवेश प्रस्ताव पर 11 दिसंबर को मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में होने वाली निवेश प्रोत्साहन कैबिनेट कमेटी की बैठक में निर्णय लिया जा सकता है।

इसके अलावा इसराइल की कंपनी एवगोल 1200 करोड़, बैकमेट 900 करोड़, केजेएस सीमेंट 350 करोड़ और रमणीक पॉवर के 200 करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव पर भी विचार किया जाएगा।

अनिल अंबानी ने शिवराज सरकार के वक्त भी मप्र में रक्षा क्षेत्र में तीन हजार करोड़ रुपए का निवेश का प्रस्ताव दिया था। तत्कालीन सरकार ने इसे हाथों-हाथ लेकर जमीन सहित अन्य सुविधाएं देने का निर्णय भी कर लिया था पर उन्होंने हाथ खींच लिए थे।

District Government : मध्‍यप्रदेश में फिर बनेगी जिला सरकार, जिला योजना समिति में होंगे 20 सदस्य

मध्‍यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद अनिल अंबानी के समूह ने अब फिर इसी क्षेत्र में इंडस्ट्री लगाने की पहल की है। समूह ने राज्य सरकार से कहा है कि केंद्र ने रक्षा खरीदी नीति बदल दी है, इसलिए अब परिस्थितियां अनुकूल हैं। वह मप्र में आयुध कारखाना लगाने चाहता है, जिस पर 400 करोड़ रुपए का निवेश होगा।

इसराइल की एवगोल कंपनी डायपर में उपयोग आने वाला कपड़ा बनाती है। वह मप्र में 1200 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। इसके लिए कंपनी के प्रतिनिधियों ने मैग्नीफिसेंट एमपी के दौरान मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात करपीथमपुर में जमीन भी देख ली है।

सरकार कंपनी को जमीन देने पर सहमत है। कंपनी को निवेश प्रोत्साहन नीति के तहत दी जाने वाली सहायता पर बैठक में विचार कर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। वहीं, पैकेजिंग मटेरियल बनाने वाली कंपनी बैकमेट पीथमपुर में 900 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।

सतना में केजेएस सीमेंट कंपनी 350 करोड़ रुपए और रमणीक पावर 200 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। प्रमुख सचिव उद्योग डॉ.राजेश राजौरा का कहना है कि निवेश के लिए इच्छुक कंपनियों के प्रस्तावों पर मुख्यमंत्री की अध्यक्षता वाली निवेश प्रोत्साहन कैबिनेट समिति में विचार किया जाएगा।