Shivpuri- “खण्ड-खण्ड”करके “शिवपुरी”के भाग करने पर आमादा “अनुभाग”..!,कलेक्टर की नाक के नीचे जमीनों का खुला खेल…। राजस्व अधिकारियों की भूमाफियाओं के साथ बराबर की साझेदारी…! कलेक्टर की साख पर बट्टा लगाते “गुड़ लिस्ट”के अधिकारी..!

327

शिवपुरी – कलेक्टर की नाक के नीचे अनुभाग का जिम्मा थामे बैठे कर्णधार शिवपुरी को खण्ड-खण्ड करने का मंसूबा पाल चुके है।यही वजह है कि खुलकर जमीनों का खेल खेला जा रहा है।भूमाफियाओं के साथ इनकी खुली साझेदारी की नज़ीरे आये दिन सामने आ रही है।मजेदार बात यह है कि आये दिन अखबारों की सुर्खियां बनने के बाद भी न ही इनके कानो पर जू रेंग रही है और न ही उच्चाधिकारी इस ओर ध्यान दे रहे है । कालिख पुते अनुभाग की कार्यप्रणाली पर बड़े अधिकारियों की खामोशी भी ईमानदारी के दावों पर सवालिया निशान खड़े कर रही है।

जानकारी के अनुसार शिवपुरी अनुभाग में भू माफियाओं के तमाम बड़े रैकेट इन दिनों सुर्खियों में है जिनके कारिंदों का अघोषित दफ्तर अनुभाग का कार्यालय हो गया है। इस दफ्तर में बेध-अवैध का खुला खेल प्रतिदिन जारी है।नियमो को ताक पर रखकर यहाँ खेती,मंदिर माफी,शाशकीय जमीनों का खुले आम बंदरबांट किया जा रहा।हजारो बीघा कृषि भूमि को खण्ड खण्ड करके अवैध कॉलोनियां काट दी गयी।नियमो को दरकिनार कर निजी व शाशकीय भूमि को रातों रात व्यवसायिक बना दिया जा रहा है।डायवर्शन व अन्य तमाम नियमो का हवाला देकर भूमाफियाओं के साथ खुलकर हिस्सेदारी की जा रही है।सूत्र बताते है कि बड़े पैमाने पर शाशकीय,फारेस्ट व ओकाय मंदिर माफी,पट्टो की भूमि गैरकानूनी ढंग से निजी हांथो में सोप दी गयी।भूमाफियाओं के गठबंधन के साथ दिन के उजाले में जमीनों का यह खेल खेला जा रहा है और रात होते ही जश्न मनाते हुये महफिले सजाई जा रही है।

सूत्र बताते है कि राजस्व के जमीनी मामलों के जानकार मैदानी अमले के चर्चित कर्मचारियों की तैनाती अनुभाग के ही इर्द गिर्द कर दी गयी है जिनका काम जमीनी भूमाफियाओं से गठबंधन कर परसेंटेज तय करना है।इस काम मे इन्हें महारता भी है ।शहर भर में चर्चित इस अमले की शिल्पकारी भी ऐसी है कि इनके नियमो के ज्ञान के आगे कही खुले आसमान के नीचे चींटी भी न निकल पाये ओर जहा यह चाहे वहाँ सुराख में से भी हांथी निकाल दे।
इतना ही नही,कलेक्टर की साख को खुलेआम बट्टा लगाने बाले ये मातहत सार्वजनिक स्थलों पर अपनी बाजीगरी से आला अफसरों को भ्रमित करने के किस्से बखान करने से भी नही चूकते। यहां तक कि गोरखधंधे की इस अनुविभागीय कर्मशाला में ये कलेक्टर की ईमानदारी तक का सौदा करने से नही चूकते…!खुले आम शिवपुरी के राजस्व अनुविभागीय कार्यालय में भूमाफियाओं के गठबंधन के साथ जमीनों का खेल खेला जा रहा है जिसकी परते अब खुलती जा रही है।आने बाले समय मे इस महकमे का काला चिट्ठा एक एक कर सामने आएगा।