*मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग भी नगर पालिका चन्देरी के आगे बेबस*

68

*अशोकनगर*- मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग भी नगर पालिका चन्देरी के आगे बेबस नजर आ रहा है यह बात हम जब कह रहे हैं तब हमें अपनी आंखों से साफ-साफ दिखाई दे रहा है क्योंकि मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग में बहुत से प्रकरण नगर पालिका चन्देरी के प्रचलित हैं और उन प्रकरणों का अभी तक निराकरण नहीं हो पाया है जबकि मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग ने नगर पालिका चन्देरी के श्रीमान लोक सूचना अधिकारी को कई बार आवेदनकर्ता को जानकारी देने के लिए आदेशित भी किया है उसके उपरांत भी नगर पालिका चंदेरी के लोक सूचना अधिकारी आवेदनकर्ताऔ को जानकारी उपलब्ध नहीं करा पा रहे है क्या ऐसे लोक सूचना अधिकारी को हिटलर कहां जा सकता है या नहीं आप कमेंट करके जरूर बताएं यह बात हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि नगर पालिका चन्देरी के श्रीमान लोक सूचना अधिकारी अपनी मनमानी चलाते हुए अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों का पालन भी करते हुए दिखाई नहीं दे रहे है और हम आपको बता दें कि सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 आम जनता के लिए सरकार द्वारा पारित किया गया था जिससे कि देश का हर एक आम नागरिक अपनी इच्छा अनुसार किसी भी शासकीय विभाग से जानकारी मांग सकें
लेकिन नगर पालिका चन्देरी सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धज्जियां उड़ाती हुई नजर आ रही है जो चंदेरी से लेकर ग्वालियर भोपाल तक कुछ दिनों से चर्चा का विषय बनी हुई है एक सवाल तो यह भी बनता है आखिर क्यों नगर पालिका चन्देरी आम जनता को सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत जानकारी देना नहीं चाहती यह सोचने वाली बात है
सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 की अवहेलना करने वाले अधिकारियों पर आखिर मध्य प्रदेश राज्य सूचना अयोग क्यों इतना मेहरबान है यह हमारी समझ से परे है क्या देश में कानून गरीबों या आम जनता के लिए ही बनाए जाते हैं क्या यह कानून शासकीय अधिकारियों पर लागू नहीं होता जो शासकीय योजनाओं के विरुद्ध कार्य करते हैं ऐसे हिटलर कर्मचारियों पर शासन प्रशासन के अधिकारियों को ध्यान देने की अति आवश्यकता है जिससे कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ आम जनता को मिल सके!

*महावीर सिंह राजपूत*
8871141035