ज्योतिरादित्य सिंधिया की सफाई-मैने नही मांगा सोनिया गांधी से मिलने का समय….? कहा,में महाराष्ट्र चुनाव में व्यस्त हु….!

331
  • ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- मैं महाराष्ट्र चुनाव पर फोकस कर रहा हूं

भोपाल/ पिछले कई दिनों से यह खबरें आ रही थीं कि 10 सितंबर को कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे। मंगलवार को दोपहर यह खबर आई कि सिंधिया की मुलाकात टल गई है। लेकिन कयास लगाए जा रहे थे कि सोनिया गांधी नाराज हैं और उन्होंने उन्हें मिलने के लिए वक्त ही नहीं दिया। क्योंकि मिलने वाले लोगों की सूची में सिंधिया का नाम ही नहीं था।

सीएम कमलनाथ और सोनिया गांधी की मुलाकात के बाद से ही यह खबरें मीडिया में चल रही थीं कि ज्योतिरादित्य सिंधिया सोनिया गांधी से मिलेंगे। लेकिन सिंधिया खेमे के किसी भी व्यक्ति ज्योतिरादित्य सिंधिया इन खबरों को कभी खारिज नहीं किया। जब मंगलवार को यह खबर आई कि सिंधिया और सोनिया की मुलाकात टल गई है। वजह बताई गई कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर स्क्रीनिंग कमिटी की बैठक है। ज्योतिरादित्य सिंधिया उसके स्क्रीनिंग कमिटी के अध्यक्ष हैं।

सिंधिया की सफाई
सोनिया गांधी से मुलाकात टलने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सफाई दी है। न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा कि मैंने सोनिया गांधी से मिलने के लिए वक्त ही नहीं मांगा हूं। यह खबरें गलत हैं। मैं फिलहाल महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव पर फोकस कर रहा हूं।

सिंधिया को अध्यक्ष बनाने की मांग
दरअसल, मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक मंत्री मध्यप्रदेश में लगातार उन्हें प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपने की मांग कर रहे हैं। समर्थक शहरों पोस्टर और बैनर लगा रहे थे। लेकिन जब सोनिया गांधी ने इन चीजों पर नाराजगी जाहिर की है। उसके बाद से सिंधिया का समर्थक भी नरम हुए हैं। हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया से जब भी इसे लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि दिल्ली में होगा फैसला।

दो बार मिल चुके हैं कमलनाथ
मध्यप्रदेश कांग्रेस में चल रही खींचतान के बीच सीएम कमलनाथ कांग्रेस की अतंरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से दो बार मिल चुके हैं। दूसरी मुलाकात के बाद सीएम ने कहा था कि मध्यप्रदेश की स्थिति को लेकर मैंने रिपोर्ट सौंप दी है। मामला अनुशासन समिति के पास है। इस पूरे प्रकरण को अनुशासन समिति के अध्यक्ष एके एंटोनी देखेंगे। सभी लोगों से वह वन टू वन बात करेंगे। उसके बाद कार्रवाई पर निर्णय लेंगे।