31 साल बाद ट्रैफिक नियम में होंगे बदलाव ,राज सभा से मोटर व्हीकल संशोधन बिल पास

213

*नई दिल्ली:*- 31 साल पहले बने मोटर व्हीकल एक्ट में अब व्यापक स्तर पर बदलाव होने जा रहे हैं. राज्यसभा से मोटर व्हीकल संशोधन बिल वोटिंग के बाद पास कर दिया गया है. बिल के पक्ष में 108 और विपक्ष में 13 वोट पड़े हैं. यह बिल लोकसभा से पहले ही पारित हो चुका है. बिल में मोटर व्हीकल एक्ट को और सख्त बनाने के प्रावधान शामिल हैं. इसके अलावा ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर ज्यादा जुर्माना लगाने के प्रावधान इस बिल में शामिल हैं. अब बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलते ही कानून बन जाएगा.

*कैसे काम करेगा नया कानून:*
—नाबालिग वाहन चलाता मिलेगा ताे वाहन मालिक काे दोषी माना जाएगा
—वाहन मालिक पर 25 हजार रुपए का जुर्माना और 3 साल की सजा का प्रावधान
—वाहन का पंजीयन निरस्त किया जाएगा
—वाहन चलाने वाले नाबालिग काे 25 साल की उम्र तक लाइसेंस नहीं मिलेगा
—नाबालिग के खिलाफ किशोर न्याय एक्ट 2000 के तहत मुकदमा चलेगा
—4 साल से अधिक उम्र के बच्चे काे भी अब हेलमेट लगाना हाेगा
—हिट एंड रन के मामले में सरकार की तरफ से मुआवजा बढ़ाया
—पहले मृतक को 25 हजार देने का प्रावधान था, अब 2 लाख रुपए किया जा रहा
—शराब पीकर वाहन चलाने पर जुर्माना बढ़ाया, 2 हजार से बढ़ाकर 10 हजार जुर्माना
—ऐसे मामलों में आरोपी वाहन चालक को 6 माह जेल होगी

*कितना बढ़ेगा जुर्माना:*-
—कार में सीट बैल्ट नहीं लगाने पर 200 के बजाय 1000 रुपए जुर्माना लगेगा
—दुपहिया वाहन पर 2 से ज्यादा सवारी होने पर 100 से बढ़कर 1000 रुपए जुर्माना
—हेलमेट नहीं होने पर 100 के बजाय 1000 रुपए जुर्माना, 3 माह लाइसेंस निलंबन
—इमरजेंसी वाहनाें काे रास्ता नही देने पर 10000 जुर्माना और 6 माह की सजा
—ओवरस्पीड में गाड़ी चलाने पर 400 से बढ़ाकर 2000 रुपए जुर्माना
—खतरनाक ड्राइविंग करने पर 1 से 2 हजार था जुर्माना, अब 1 से 5 हजार जुर्माना
—रेड लाइट जंपिंग, स्टाॅप लाइन क्राॅस करना, माेबाइल पर बात के 2 बार ऑफेंस पर 10 हजार जुर्माना और 3 साल की सजा
—भाैतिक-मानसिक रूप से अयाेग्य हाेने पर वाहन चलाने पर 200 से 500 था जुर्माना, अब 1000 से 2000 रुपए
—गाडियाें की रेसिंग करते पाए जाने पर 500 से बढ़ाकर 5000 किया जुर्माना
—असुरक्षित दशा में वाहन चलाने पर 250 से 1000 था जुर्माना, अब किया 1500 से 5000 रुपए
—वाइपर, साइड ग्लास, रिफ्लेक्टर, प्रदूषण प्रमाणा पत्र नहीं हाेना इस श्रेणी में शामिल
—बिना वाहन पंजीयन पाए जाने पर 2000 से 5000 था जुर्माना, अब किया 5000 से 10000 रुपए
—बिना परमिट पाए जाने पर 2000 से 5000 था जुर्माना, अब होगा 10 हजार रुपए जुर्माना