टी आई के खिलाफ आम जन सड़को पर,ज्ञापन सोपा, लगाये मुर्दाबाद के नारे….! झूठे केस में रघुवंशी समाज के युवक की पिटाई कर नाखून खीचने का था आरोप…!

205

टी आई के खिलाफ आम जन सड़को पर,ज्ञापन सोपा, लगाये मुर्दाबाद के नारे….!
झूठे केस में रघुवंशी समाज के युवक की पिटाई कर नाखून खीचने का था आरोप…!
गुना- स्थानीय हनुमान चौराहे पर आज रघुवंशी समाज के सेकड़ो लोगो ने एकत्रित होकर एसपी गुना को मध्यप्रदेश के गृहमंत्री के नाम ज्ञापन सोपा ओर टी आई सप्रे को हटाने की मांग की।टी आई सप्रे पर रघुवंसी समाज के एक युवक को लूट के झूठे मामले में पकड़कर उसके साथ बेरहमी से मारपीट करने व प्लास से नाखून खीचने का आरोप था जिस पर समाज के लोग लामबंद हो गये थे।

विस्तृत जानकारी के अनुसार एक लंबे समय से गुना अशोकनगर क्षेत्र में विवादित टी आई सप्रे के खिलाफ आज फिर लोग सड़कों पर उतर गए और मुर्दाबाद के नारे बाजी करते हुए मध्य प्रदेश के गृहमंत्री के नाम पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा ।आक्रोशित लोगों का कहना था कि टीआई सप्रे गुना अशोकनगर क्षेत्र में तकरीबन 6 मर्तबा पदस्थ रहे और हर बार विवादित रहे ।लोगों पर झूठे मुकदमे दर्ज करना इनकी आदत रही ।पूर्व में भी लूट के झूठे मामले में इन्होंने रघुवंशी समाज के उमेश रघुवंशी को शक की बिनाह पर पूछताछ के लिए हिरासत में लिया और उसके साथ बुरी तरह से मारपीट की ।यहां तक की प्लास से उसके नाखून तक निकाल लिए थे। उस समय भी रघुवंशी समाज के लोगों में जबरदस्त आक्रोश था और उन्होंने चक्का जाम किया ।बाद में उस लूट के आरोपी शिवपुरी पकड़े गये थे तब जाकर मामला खुला था। टीआई सपरे की पदस्थ दोबारा से अशोकनगर क्षेत्र में कर दी गई जिस पर लोगों का आक्रोश फिर भड़क गया और आज भी सड़कों पर उतर गए ज्ञापन देने आए। लोगों ने जमकर टीआई के खिलाफ नारेबाजी भी की। लोगों का कहना था कि हाल ही में निकले एक आदेश के तहत टीआई सप्रे का स्थानांतरण गुना अशोकनगर कर दिया गया है ।उनके यहां आने से पूर्व के प्रकरण में चल रही जांच प्रभावित हो सकती है इसलिए उनका स्थानांतरण निरस्त किया जाये वे अपनी ऊंची राजनीतिक पेट के चलते बार-बार गुना अशोकनगर क्षेत्र मैं अपनी पदस्थ थी करा ली थी।

जिसका जूता, उसी का सर…!
पुरानी कहावतें कि जिस का जूता उसी का सर।आज यह कहावत उस समय चरितार्थ हो गई जब टी आई के खिलाफ लोग सड़कों पर उतर आए ।ज्ञापन देने आए लोगों का कहना था कि उक्त टीआई द्वारा पूर्व के तमाम कार्यकाल में झूठे और बेगुनाह लोगों पर तमाम मामले दर्ज कराएं जिसके कारण लोगों में आक्रोश पनप गया और आज कानून व्यवस्था संभालने वाले अधिकारी के लिए ही शहर के लोग विरोध में उतर आए।