राज्‍य सभा उप चुनावः चुनाव आयोग का एलान, बिहार, ओडिशा और गुजरात में 5 जुलाई को होगी वोटिंग

57

नई दिल्लीः चुनाव आयोग ने बिहार, ओडिशा और गुजरात में खाली छह सीटों पर चुनाव के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. चुनाव आयोग के मुताबिक पांच जुलाई को तीनों राज्यों में चुनाव करवाए जाएंगे. इन तीनों राज्यों को मिलाकर छह सीटों पर चुनाव होंगे. लोकसभा चुनाव के बाद इन तीनों राज्यों में कुल 6 सीटें खाली हुई थी.

बिहार में रविशंकर प्रसाद की सीट खाली हुई है. वह पटना साहिब से सीट जीतकर लोकसभा पहुंचे हैं. रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा को हराया.

वहीं गुजरात से अमित शाह और स्‍मृति ईरानी की सीटें खाली हुई हैं. अमित शाह गांधीनगर तो स्मृति ईरानी अमेठी लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर संसद पुहंची हैं.

इधर, आज तक के अनुसार बिहार से रविशंकर प्रसाद, गुजरात से अमित शाह और स्मृति ईरानी, ओडिशा से अच्युत सामंत, प्रताप केसरी देव और सौम्यरंजन पटनायक ने इस्तीफा दिया था. इन सभी सीटों पर 25 जून को नामांकन होगा. वहीं सभी सीटों के लिए मतदान 5 जुलाई को सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक संबंधित विधानसभाओं में होगा. 5 जुलाई देर रात तक नतीजे आ जाएंगे.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद बिहार से राज्यसभा सांसद थे. यह सीट उन्होंने पटना साहिब से चुनाव लड़ने के लिए छोड़ी थी. पटना साहिब सीट से कांग्रेस ने शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीदवार बनाया था. यहां का सबसे रोमांचक मुकाबला माना जा रहा था. जबकि नतीजों में रविशंकर प्रसाद को एकतरफा जीत हासिल हुई. इस सीट पर बीजेपी उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद ने 2,84,657‬ वोटों के अंतर जीत प्राप्त की.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुजरात के गांधी नगर से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए राज्यसभा सीट से इस्तीफा दिया था. अमित शाह ने गांधी नगर सीट पर 5,57,014‬ मतों के अंतर से शानदार जीत प्राप्त की थी. अमित शाह के सामने कांग्रेस ने सी.जे चावड़ा को टिकट दिया था.

इस बार अमेठी की सीट पर सबकी निगाहें थीं क्योंकि इस सीट से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को चुनौती देने के लिए बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी मैदान में थीं. यहां से स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को 55,120 वोटों के अंतर से हराया. यह कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी हार थी.

गुजरात की एक सीट जा सकती है कांग्रेस के खाते में

गुजरात की एक सीट कांग्रेस के पाले में जा सकती है. बीजेपी दोनों ही सीटों पर जीत दर्ज करने के लिए पूरी कोशिश कर रही है. हालांकि गुजरात विधानसभा के मौजूदा विधायक की गिनती के अनुसार एक सीट बीजेपी को तो एक सीट कांग्रेस के खाते में जा सकती है.

विधानसभा में कांग्रेस के पास फिलहाल 72 विधायक हैं. जबकि बीजेपी के पास 100 विधायक हैं. जबकि बीजेपी के चार विधायको के सांसद बनने से बीजेपी का 104 का आंकड़ा 100 हो गया है. जबकि बीजेपी को दोनों सीट जीतने के लिए 120 विधायक चाहिए.