टूटा तिलस्म,ढहा सिंधिया का किला…।भाजपा से के पी यादव ने कांग्रेसी क्षत्रप ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराया चुनाव…! सिंधिया परिवार की पारंपरिक सीट है गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र….!

670

 

(बृजेश सिंह तोमर)

गुना शिवपुरी क्षेत्र में कई दशकों से अपराजेय योद्धा की भूमिका में रहने वाले सिंधिया परिवार का किला ढह गया। अदने से एक प्यादे ने लोकसभा की चुनावी बिसात पर महाराजा को मात दे दी ।आज घोषित हुए चुनावी परिणामो में भाजपा से के.पी यादव ने कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया को 126000 बोटो के बड़े अंतर से हरा दिया।
लोकसभा चुनाव की डुगडुगी बजने के बाद गुना शिवपुरी संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रमुख दलों भाजपा के पी यादव व कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच होना तय हुआ।प्रारम्भिक दौर से ही यह चुनाव बहुत आसान माना जा रहा था क्योंकि पहले ही दौर में बसपा प्रत्याशी लोकेंद्र धाकड़ चुनावी मैदान छोड़कर सिंधिया की गोदी में जा बैठे थे।इसके अलावा मूलतः मुंगाबली के रहने बाले के पी यादव भी पूर्व में सिंधिया समर्थक थे जो विधानसभा टिकट न मिलने के कारण रूठकर भाजपा में आये और उन्हें लोकसभा का टिकट दिया गया।राजनेतिक हलकों में तो चर्चा यहाँ तक थी कि खुद सिंधिया ने ही यह टिकट मैनेज किया था तांकि उनकी जीत का अंतर बढ़ सके।
चुनाव प्रचार की प्रक्रिया में भी भाजपा का प्रचार कही परवान नही चढ़ स्का किन्तु मोदी लहर ने देश भर की तर्ज पर इस लोकसभा सीट पर भी अपना प्रभाव डाला और जमकर मतदान हुआ।
हालांकि देश भर के एडजेक्ट पोल गुना-शिवपुरी सीट पर सिंधिया की जीत को लेकर संशय जता रहे थे किंतु क्षेत्रीय राजनीतिक ज्ञाता भी पूर्ण आत्मविश्वास से इस बात को स्वीकार नही कर पा रहे थे।हालांकि माना जा रहा था कि इस सीट पर जीत हार का अंतर अवश्य कम रह सकता है।
आज परिणाम के दिन प्रारम्भिक दौर से ही जब भाजपा प्रत्याशी के पी यादव ने बढ़त बनाई तो अंत तक अंतराल बढ़ता ही चला गया।महज पिछोर ओर बमोरी विधानसभा को छोड़कर अन्य समस्त विधानसभाओ से भाजपा ने बढ़त बनाई और अंत मे 126000 बोटो से धमाकेदार जीत दर्ज कराई।
भाजपा प्रत्याशी के पी यादव की इस जीत के बाद गुना शिवपुरी संसदीय क्षेत्र से यह तिलस्म भी टूट गया कि यहां से सिर्फ सिंधिया परिवार या उसके द्वारा समर्थित प्रत्याशी की ही जीत होती है।इस बार खुद सिंधिया परिवार के मुखिया व कांग्रेस के स्टार प्रचारक ज्योतिरादित्य सिंधिया ही अपनी पारिवारिक सीट से चुनाव हार गये।

मोदी लहर में काम ना आई राज परिवार की कंवेंसिंग…!

देश भर की तर्ज पर गुना शिवपुरी संसदीय क्षेत्र में भी चली मोदी लहर की सुनामी ने सिंधिया राजपरिवार की कन्वेंसिंग को भी नेस्तनाबूद कर दिया ।विदित रहे कि चुनाव में प्रत्याशी की घोषणा के पूर्व से ही शिवपुरी गुना क्षेत्र में सिंधिया परिवार की महारानी और ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी श्रीमती प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया ने पूर्ण रूप से अपना स्थाई डेरा डाल दिया था ।सुबह से देर रात तक उन्होंने शिवपुरी व गुना के ग्रामीण क्षेत्रों का जमकर दौरा किया साथ ही कुछ समय उनके पुत्र महा आर्यमन सिंधिया व पुत्री ने भी क्षेत्रीय जनता के बीच जाकर अपने पिता के विकास कार्यों की गाथाये गाई। सिंधिया राजपरिवार का यह अभियान भी मोदी लहर की सुनामी में काम न आया और एक तरफा 2 विधानसभाओं को छोड़कर अन्य समस्त विधानसभाओं से कांग्रेस हारती गई ।यहां तक कि शिवपुरी और गुना शहरी क्षेत्र से भी कांग्रेस को पराजय का मुंह देखना पड़ा।