heart atteck – हार्ट अटैक जैसी बीमारियों से बचने का आसान जर्मन नुस्खा….! बन्द नसों के ब्लॉकेज खोलने में भी है कारगर….!

213

आजकल गलत खानपान और खराब लाइफस्टाइल की आजकल गलत खानपान की वजह से तमाम तरह की बीमारियां लोगों को घेर रही हैं। धमनियों का बंद होना भी ऐसी ही एक बीमारी है जो कई बार जानलेवा साबित होती है। मोटापा और बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल इस बीमारी की मुख्य वजह हैं।

आमतौर पर ये बीमारी बड़ी उम्र में होती है मगर आजकल छोटे बच्चे भी इसके शिकार हो रहे हैं।  धमनियों के बंद होने या संकरा होने से दिल की बीमारियों का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है।

क्यो है महत्वपूर्ण धमनियां…..

धमनियों का मुख्‍य कार्य हमारे शरीर में सिर से पैरों तक रक्‍त प्रवाह करना है। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ, शरीर के विभिन्न हिस्सों की रक्त वाहिकाओं में, जिनमें कोरोनरी आर्टरीज भी शामिल हैं, कोलेस्ट्रॉल जम जाता है, जिससे रक्त के बहाव में धीरे-धीरे बाधा उत्पन्न होने लगती है। धमनियों का बाधित होना खतरनाक बीमारियों जैसे हार्ट डिजीज और स्‍ट्रोक आदि के मुख्‍य कारणों में से एक है।

क्यो होती है धमनियां ब्लॉक….

धमनियों में भरे जमाव को प्‍लॉक के रूप में जाना जाता है। प्‍लॉक के निर्माण से एथेरोस्क्लेरोसिस हो सकता है, यह एक ऐसी अवस्‍था है जिसमें धमनियां सकुंचित हो जाती है, जिससे रक्‍त प्रवाह बनाये रखना मुश्किल हो जाता है।

आजमाए ये नुस्खा…

बंद धमनियों को फिर से खोलने के लिए इस जर्मन नुस्खे को आप आसानी से घर पर ही बना सकते हैं।

जरूरी सामान…

*चम्मच कटे हुए अदरक

*मीडियम साइज के नींबू

*लीटर पानी…

*गट्टे लहसुन…

बनाने की विधि…

इसे बनाने के लिए सबसे पहले नींबू को अच्छी तरह धुलकर उन्हें छिलके सहित छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। अब चारों लहसुन को छीलकर उन्हें कुचल लें। इसे थोड़े देर के लिए रख दें। अब कटे हुए अदरक, कटे हुए नींबू और लहसुन को ग्राइंडर में डालकर अच्छी तरह पीस लें।

इस मिक्चर को रख दें और गैस पर पानी उबालने के लिए रख दें। जब पानी उबलना शुरू हो जाए तो उसमें ये मिश्रण डाल दें। 10 मिनट तक बीच-बीच में चलाते हुए इसे पकाएं। पकने के बाद इसे ठंडा होने के लिए रख दें। ठंडा होने के बाद इस मिश्रण को अच्छे से छान लें और एयर टाइट कंटेनर में भर लें। आपका सिरप तैयार है।

कैसे करे इस्तेमाल…

इस सिरप को रोजाना खाली पेट सुबह और फिर खाना खाने से दो घंटे पहले पियें। दिन में तीन बार के सेवन से तीन हफ्तों में ही आपकी बंद धमनियां पूरी तरह खुल जाएंगी। इस सिरप का स्वाद थोड़ा कसैला हो सकता है इसलिए इसे पीने के बाद आप थोड़ा सा शहद खा सकते हैं।