डेंगू के डंक से थर्राया जिला शिवपुरी

305

*घर घर मे पनप रहा लार्वा*
सिविल अस्पताल प्रबंधन की ओर से डेंगू से निपटने के लिए बेशक पुख्ता प्रबंध किए जाने का दावा किया जा रहा है लेकिन डेंगू के डंक के डर से विरासती शहर के लोगों में दहशत पाई जा रही है। पिछले साल डेंगू से लोगों की मौत के कारण हर शहरी बेहद डरा हुआ है। इस साल डेंगू से शिवपुरी में मौत के आंकड़े सामने न आ पाए हो,लेकिन अस्पतालों और पैथोलॉजी पर विशाल भीड़ साफ दिखा रही कि शिवपुरी की जनता डेंगू के डंक से सहमी हुई है। मरीजों के पॉजीटिव पाए जाने से लोगों में डेंगू का डर होना स्वभाविक ही माना जा सकता है।* जिले अस्पताल में मात्र 4बिस्तर का डेंगू वार्ड बनाकर इतिश्री कर ली*
डेंगू से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग व जिला अस्पताल की टीम पिछले साल से भी कोई सबक नही लिया है। जिला अस्पताल में डेंगू से बचाव के लिए डेंगू वार्ड बनाया जाना चाहिए था जिसमें कम से कम 25 लोगों को निरन्तर उपचार किया जाना चाहिए। जागरुक करने के लिए एक स्पेशल वैन चलाई जाना चाहिये। जिला अस्पताल में डेंगू के डंक से निपटने के लिए महज 4 बैड लगाए गए है क्या ऐसे ही मध्यप्रदेश का नम्बर 1 अस्पताल का पुरुस्कार से नवाजा गया था।नगर पालिका और स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण डेंगू का कहर जारी है। नगर पालिका चिर निद्रा में लीन है।डेंगू के लार्वे को नष्ट करने के लिये क्या कदम उठाये वो तो शहर शिवपुरी जानती ही है। नगर पालिका की फोगिग मशीन का उपयोग कब होगा या मात्र सरकार के पैसे को व्यय करने के लिये ही उसे खरीदा गया था। इस समय भी उन क्षेत्रों और घरों में भी डेंगू का लारवा मिल रहा है जहां पिछले वर्ष लोग डेंगू से पीड़ित हुए थे।