बांधा रक्षा सूत्र ओर दिया “पौधों” का उपहार…* *रक्षा के वचन के साथ लिया भाईयो-बहनों ने पर्यावरण को बचाने का संकल्प….!*shivpuri

217

🎀🎀🎀🎀🎀🎀🎀
*बांधा रक्षा सूत्र ओर दिया “पौधों” का उपहार…*
*रक्षा के वचन के साथ लिया पर्यावरण को बचाने का संकल्प….!*
————————————
*नन्ही नन्ही “कनु,अनु,रिशु” सुबह से ही चहक रही थी अपने भाइयो की कलाइयों पर रक्षा सूत्र सजाने के लिये,ओर चहकती भी क्यू नही..!इस रक्षावन्धन के लिए उन्होंने खास तैयारियां जो कर रखी थी।नन्हे नन्हे हांथो में कोहनी तक दीदी खुशबू से खूबसूरत मेहंदी लगवाई थी,नए-नए कपड़े,मनपसंद प्यारी-प्यारी राखियो का संग्रह…!ओर सबसे खास था कलाइयों पर रक्षासूत्र बांधने के साथ-साथ भाइयो के लिए खूबसूरत “पौधों का उपहार…”जी हां….! भाई बहन के स्नेह के इस पवित्र त्योहार रक्षा बंधन को इन नोनिहालो ने ठीक इसी अंदाज में मनाया। छोटी-छोटी बहनों ने अपने भाइयो की कलाई पर खूबसूरत रक्षा सूत्र बांधे ओर उनकी आरती उतारने के बाद उन्हें प्रकृति के सुंतलन हेतु “पौधों का उपहार भी दिया। भाइयो ने भी रक्षा के वचन के साथ पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया।*
*शिवा नगर स्थित तोमर परिवार में रक्षाबंधन का पर्व नन्ही बहनों ने बड़े उत्साह से मनाया। भगवान के मंदिर के आगे खूबसूरत रंगोली बनाई और चोक पूरा।इसके बाद उस पर भाइयो को बिठाने के लिए चौकी लगाई।नन्हे-नन्हे हांथो से इन बहनों ने अपने भाइयो की आरती उतारी ओर उनकी कलाइयों पर राखी बांधी।जहाँ भाइयो ने उन्हें रक्षा के वचन के साथ उपहार दिए भी बहनों ने भी उन्हें “पौधे”भेट किये।सभी ने मिलकर पर्यावरण की रक्षा का संकल्प भी लिया और इन पौधों को “पर्यटक स्वागत केंद्र “में जाकर अपने हांथो से रोपा भी।*
*इससे पहले इन बहनों ने सरहद के भाइयो के लिए भी अपने हांथो से लिखे शुभकामना पत्र के साथ राखियां भेजी थी।*
———-
🌴 *भविष्य के लिए पर्यावरण बचाना बेहद जरूरी…*🌴
*कक्षा 5 में पढ़ने बाली कनिष्का तोमर का कहना था कि भविष्य के लिए बिगड़ते पर्यावरण को बचाना बेहद जरूरी है।उन्हें स्कूल में तो यह बताया ही गया था साथ ही पिछले 3 माह से वे मदद बैंक के अंतर्गत अपने पिता बृजेश तोमर व उनके साथियों को निरन्तर पौधे लगाते देख रही थी जिससे उन्हें भी लगा कि हम कुछ अलग प्रकार से रक्षाबंधन मनायेंगे।उन्होंने जन्मदिवस को भी पिता के साथ पौधा रोपकर मनाया था जिसे निरन्तर बढ़ता देखकर उन्हें खुशी होती है।*
🎀🎀🎀🎀🎀🎀🎀