काश मेरे वतन में हर रोज आजादी का पर्व आये*..

249

*काश मेरे वतन में हर रोज आजादी का पर्व आये*..………..
पकी रोटियां मिल जाये और खाने में सब्जी भी नजर आए,
काश मेरे वतन में ,हर रोज आजादी का पर्व आये,
चावल पका हुआ मिल जाये,मीठे से भी मन बहल जाए,
काश मेरे वतन में रोज आजादी का पर्व आये।