अब प्रदेश की बेटियों से होगी महिला हाकी एकेडमी गुलजार

2048

मध्य प्रदेश में रंग ला रही है संविदा हाकी प्रशिक्षकों की मेहनत
अब प्रदेश की बेटियों से होगी महिला हाकी एकेडमी गुलजार
श्रीप्रकाश शुक्ला
मध्य प्रदेश सरकार द्वारा महिला हाकी के उत्थान की दिशा में किए गये कार्यों के नतीजे अब दिखने लगे हैं। 12 साल पहले जहां खोजने से भी प्रतिभाएं नहीं मिल रही थीं वहीं आज स्थिति बिल्कुल अलग है। अब सिर्फ ग्वालियर ही नहीं दमोह, मंदसौर, मुरैना, बालाघाट, नीमच, सिवनी, होशंगाबाद आदि जिलों के फीडर सेण्टरों से भी प्रतिभाएं निकल कर आ रही हैं। हम कह सकते हैं कि सरकार ने संविदा प्रशिक्षकों को बेशक उनका वाजिब हक न दिया हो लेकिन उनकी मेहनत रंग लाने लगी है। संविदा प्रशिक्षकों की लगन से तैयार हुई प्रतिभाशाली बालिकाओं की यह पौध अब मध्य प्रदेश महिला हाकी एकेडमी में रोपी जाएगी। मध्य प्रदेश खेल एवं युवा कल्याण विभाग की मंशा है कि अब महिला हाकी एकेडमी में प्रदेश के फीडर सेण्टरों की बेटियों को ही अधिकाधिक मौका मिले। खेल विभाग के इन प्रयासों को अमलीजामा पहनाया जाए इससे पहले जरूरी है कि संविदा प्रशिक्षकों को नियमित कर फीडर सेण्टरों को और सुविधाएं मयस्सर कराई जाएं।