शिवपुरी – समझौते की बात सुन पति पत्नि की आंखों से बहने लगे खुशी के आंसू ….!** -अब लड़का गुना नहीं शिवपुरी में रहेगा,काउन्सलरों की समझाईश पर हुई सुलह…. 

1112

समझौते की बात सुन पति पत्नि की आंखों से बहने लगे खुशी के आंसू

-अब लड़का गुना नहीं शिवपुरी में रहेगा,काउन्सलरों की समझाईश पर हुई सुलह

-तीन परिवारों में समझौता एक में हुआ आंशिक

शिवपुरी ब्यूरो। स्थानीय पुलिस कन्ट्रोल रूम में रविवार को आयोजित परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में कुल 12 प्रकरणों का निराकरण किया गया इस शिविर में जहां तीन पति-पत्नियों में एक साथ रहने हेतु समझौता कराया गया वहीं एक पति पत्नि में आंशिक समझौता हुआ और एक माह बाद उन्हें पुन: बुलाया जा रहा है। ताकि सामांजस्य बिठा कर एक हो जाऐं। इस शिविर में चार प्रकरणों को न्यायालय भेजे जाने हेतु परामर्श दाताओं ने अनुसंसा की वहीं दो प्रकरणों को पुन: बुलाया गया है। दो प्रकरणों में एक पक्ष उपस्थित होने के कारण उन्हें अगली तारीख दी गई है। इस माह पिछली बैठक को मिलाकर कुल आठ प्रकरणों में राजीनामा हुआ है। जिसमें पांच पिछली बैठक थे और तीन आज की काउन्सलिंग के हैं।

रविवार को आयोजित जिला परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में परामर्श दाताओं के प्रयास और पारिवारिक माहौल की समझाईश से तीन बिछड़े परिवारों को राजीनामा कराकर एक करने में उल्लेखनीय सफलता हांसिल की। इसमें सलीमा बानो परिवर्तित नाम का विवाह बसीन निवासी गुना के साथ हुआ था और लम्बे समय से दोनों पति-पत्नि के बीच विवाद के हालात चले आ रहे थे। इसके पूर्व परिजनों ने इनके बीच सुलह कराकर लड़के को लड़की सहित शिवपुरी जिले की एक तहसील में शिफ्ट कराकर काम पर लगा दिया था। परन्तु कुछ समय के बाद लड़का पुन: गुना लड़की को छोड़कर चला गया। इन दोनों के बीच मतभेद तो था ही साथ ही इन दोनों की माँ और इन दोनों के पिताओं के बीच भी भारी मतभेद था। परामर्शदाताओं ने अपने कौशल से जहां सधिन से समधिन का और समधी- समधी का गले मिलाकर समझौता कराया और पति-पत्नि अब गुना की जगह शिवपुरी रहकर अपना नया जीवन शुरू करेंगे। एक अन्य प्रकरण में सीमा परिवर्तित नाम रानी लोधी का परिवर्तित नाम राजा लोधी निवासी पिछोर के साथ लम्बे समय से विवाद चल रहा था। इनकी शादी को तीन साल हुए थे और विगत एक वर्ष से ये दोनों अलग रह रहे थे। लड़का लड़की पर सभी प्रकार के शक करता था और अपनी प्रोपर्टी का इकलौता बारिश होने के कारण उसमें असुरक्षा का भय था। परामर्श दाताओं ने अपने कौशल के हुनर से पति पत्नि के बीच जो अविश्वास के कारण थे। उनको दूर किया और लड़के को सुरक्षा का भाव का अहसास कराया। बहुत ही पारिवारिक काउन्सलिंग में इस चुनौती पूर्ण प्रकरण को जब सुलझाने में सफलता प्राप्त हुई तो पत्नि की आंखों से खुशी के झरझर आंसू बहने लगे। एक अन्य प्रकरण में पोहरी निवासी सलीम खांन का अपनी पत्नि बानो निवासी खोड़ के साथ विगत एक साल से विवाद चल रहा था और पति से पत्नि विगत एक साल से अलग रहकर खोड़ में ही सिलाई के द्वारा अपना और अपने तीन बच्चों का पालन पोषण कर रही थी। काउन्सलरों ने कड़ी मेहनत से समझाईश के बाद इन दोनों को एक करने में सफलता प्राप्त की और इनके बीच जो मनमुटाव थे उन्हें दूर किए। समझौते के अनुसार चूंकि पत्नि सिलाई का काम करती है और उसके ब्लॉउजों के कुछ ऑर्डर भी पड़े थे जिन्हें सिलकर देना बहुत जरूरी था। इस कारण वह सात दिन में उस ऑर्डर को पूरा करके अपने पति के साथ बच्चों सहित रहेगी। अब ये पति-पत्नि दोनों तय करेंगे कि उन्हें पोहरी रहना है, खोड़ रहना है या फिर शिवपुरी। एक अन्य प्रकरण में काउन्सलरों के द्वारा आंशिक राजीनामा पति-पत्नि के बीच कराया गया है और एक माह के बाद अगली तारीख पर वे उपस्थित होकर समझौता कर लेंगे। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय, उप पुलिस अधीक्षक महिला सैल आनंदराय, परिवार परामर्श केन्द्र के जिला संयोजक आलोक इंन्दौरिया श्रीमती सीमा सुनील पाण्डेय, उमा मिश्रा,प्रीति जैन, पुष्पा खरे, आनंदिता गांधी, नम्रता गर्ग, बिन्दु छिब्बर, रबजोत ओझा, भरत अग्रवाल, समीर गांधी, राकेश शर्मा, राजेश गुप्ता, संतोष शिवहरे, राजेन्द्र राठौर, शंभू पाठक, हरवीर सिंह चौहान, डॉ. विजय खन्ना, नवागत महिला प्रकोष्ठ नवागत सब इंस्पेक्टर कोमल परिहार, एएसआई बेबी तपसुम्म सहित महिला प्रकोष्ठ का स्टाफ उपस्थित था।