चंदवासा// देश की प्रथम महिला शिक्षिका माता सावित्रीबाई फुले की जयंती धूमधाम से मनाई गयी नगर में निकली पहली बार माता सावित्रीबाई फुले की जयंती पर ऐतिहासिक कलश यात्रा व शौभायात्रा*

812

*चंदवासा// देश की प्रथम महिला शिक्षिका माता सावित्रीबाई फुले की जयंती धूमधाम से मनाई गयी नगर में निकली पहली बार माता सावित्रीबाई फुले की जयंती पर ऐतिहासिक कलश यात्रा व शौभायात्रा*
==========================
*चंदवासा @ ✍🏿दिनेश माली की कलम से*
==========================
*3 जनवरी 2018 को माता सावित्रीबाई फुले की जयंती पर चंदवासा में पहली बार निकली संयुक्त माली समाज राष्ट्रिय फुले ब्रिगेड चंदवासा जिला मंदसौर के तत्वावधान में ऐतिहासिक कलश यात्रा व शौभायात्रा सर्वप्रथम कालेश्वर मंदिर से विधिविधान के साथ पूजन करके कलशयात्रा व शौभायात्रा का सुबह 10 बजे शुभारंभ किया गया यह कलश यात्रा व शौभायात्रा डीजे व ढोल के साथ कालेश्वर मंदिर से छावनी चौक , मुख्य बाजार , बस स्टेंड , गीता चौराहा से होती हुई माताजी बावड़ी माली मोहल्ला चंदवासा पहुची ! कलश यात्रा व शौभायात्रा का जगह जगह पुष्प वर्षा से स्वागत हुआ छावनी चौक में पोरवाल युवा संघठन व प्रजापति युवा संघठन द्वारा स्वागत किया गया वही प्रजापति युवा संघठन द्वारा चाय व जलपान की व्यवस्था की गयी थी ! बस स्टेंड पर क्षेत्रीय विधायक हरदीपसिंह डंग द्वारा माता सावित्रीबाई फुले की पूजा अर्चना की गयी वही बस स्टेंड पर भव्य आतिशबाजी के साथ सभी महिलाओ और पुरुषों ने डांडिया भी खेला ! कलश यात्रा व शौभायात्रा के माताजी बावड़ी पर पहुचने के बाद माता सावित्रीबाई फुले व भगवान भोलेनाथ की आरती के पश्चात पधारे हुवे अतिथियों का स्वागत किया गया ! उसके बाद अतिथियों ने माता सावित्रीबाई फुले के जीवन के बारे में सभी को बताया ! कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विनोद माली एडवोकेट (प्रदेशाध्यक्ष संयुक्त माली समाज राष्ट्रिय फुले ब्रिगेड मध्यप्रदेश ) व प्रकाश पड़िहार यूको बैंक शाखा चंदवासा प्रबंधक थे ! विनोद जी माली ने समाज में फ़ैल रही कुरीतियों के बारे में बताया और माता सावित्रीबाई फुले के जीवन पर प्रकाश डालते हुवे कहा की माता सावित्रीबाई फुले जब 9 वर्ष की थी तब उनका विवाह महात्मा ज्योतिबा फुले के साथ हुआ ! माता सावित्रीबाई व महात्मा ज्योतिबा फुले ने मिलकर समाज में फ़ैल रही कुरीतियों को दूर किया नारी शिक्षा में महत्वपूर्ण योगदान दिया आज जो महिलाये पड़ी लिखी है वो सब माता सावित्रीबाई फुले के महान कार्यों से है ! सावित्रीबाई फुले जब पढाने जाती थी तो लोग उन पर गंदगी , कीचड फैका करते थे माता सावित्रीबाई ने नारी शिक्षा के साथ साथ नारी सशक्तिकरण में भी बड़ा योगदान दिया !*

*कार्यक्रम की अध्यक्षता बालूराम माली , कचरूलाल माली ने की ! कार्यक्रम का संचालन सत्यनारायण तराज सर , व परमानन्द माली द्वारा किया गया ! कार्यक्रम में शामगढ़ , बाप्च्या , बघुनिया , आवरा , अजयपुर व मुख्य गाँव चंदवासा से सैकडो की संख्या में माली समाज के महिलाओ ,पुरुषों बच्चो और बुजुर्गो ने पधारकर कार्यक्रम सफल बनाया ! माताजी बावड़ी पर सब्जी विक्रेता संघ द्वारा सभी के लिए चाय की व्यवस्था की गयी कार्यक्रम के अंत में आभार दिलीप माली , मंगल माली , राहुल माली ,बंटी माली व संयुक्त माली समाज राष्ट्रिय फुले ब्रिगेड टीम चंदवासा कार्यकर्ताओ ने माना !*
*कार्यक्रम के अंत में भोजन प्रसादी वितरण का आयोजन रखा गया !*