सुसनेर सालरिया गो अभयारण्य में भूसा प्रदान करने वाले ठेकेदार पर सैकड़ों गायों की मौत के मामले में धारा 302 में प्रकरण दर्ज होना चाहिए-प्रतिपक्ष नेता अजय सिंह राहुल भैया

676

खबरआजकल

सुसनेर सालरिया गो अभयारण्य में भूसा प्रदान करने वाले ठेकेदार पर सैकड़ों गायों की मौत के मामले में धारा 302 में प्रकरण दर्ज होना चाहिए-प्रतिपक्ष नेता अजय सिंह राहुल भैया

सुसनेर सालरिया गो अभयारण्य में भूसा प्रदान करने वाले ठेकेदार पर सैकड़ों गायों की मौत के मामले में धारा 302 में प्रकरण दर्ज होना चाहिए। यह बात मप्र के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कही। वे मंगलवार को गो अभयारण्य का निरीक्षण करने के बाद मीडिया से चर्चा कर रहे थे। एक माह से मर रही हैं गायें चर्चा प्रदेश कांग्रेस प्रतिनिधि राणा विक्रम सिंह के निवास पर हुई। उन्होंने अभयारण्य में 1 माह में मरी 400 से अधिक गायों की मौत को लेकर जिला प्रशासन व संबंधित ठेकेदार पर कार्रवाई नहीं करने पर आगामी रणनीति बनाने की बात भी कही। ग्रामीणों से बात की गायों की मौत के मामले में मंगलवार को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव, पूर्व विधायक प्रियवृतसिंह खींची, पूर्व मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा, जिलाध्यक्ष बाबूलााल यादव अभयारण्य पहुंचे और ग्रामीणों से बात की। निरीक्षण भी किया निरीक्षण में गो शेड, खराब भूसा जो गोदाम में रखा था और बगैर पीएम किए जहां गायों को दफनाया जा रहा है, उस स्थान का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ग्रामीणों ने गायों के कंकाल दिखाए। अव्यवस्थाओं की भी जानकारी दी। पदस्थ अधिकारी वीएस कोसरवाल से पूछा कि इतनी गायों की मौत कैसे हुई तो उन्होंने 117 गायों की मौत होना बताया। तभी प्रदेश प्रतिनिधि राणा विक्रमसिंह ने बताया दो दिन पूर्व हमारा प्रतिनिधि मंडल आया था तो आपने 52 गायों की मौत बताई थी, अब 117 कैसे हो गईं। इस पर अधिकारी बगल झांकने लगे। ब्लॉक कांग्रेस का धरना आंदोलन इसके बाद पुराना बस स्टैंड पर ब्लॉक कांग्रेस के तत्वावधान में धरना आंदोलन हुआ। जिलाध्यक्ष यादव ने कहा आज हम वोट मांगने नहीं आए हैं। आज गोमाता को न्याय दिलाने आए हैं। गोमाता के नाम पर सत्ता मे आए संगठन के लोग चुप क्यों हैं। वह चुप हैं इसी कारण कांग्रेस मैदान में आई है। जब तक गो अभयारण्य में मरी गायों को न्याय नहीं मिलेगा। हमारी लड़ाई जारी रहेगी। पूर्व पार्षद फकीर मोहम्मद खान ने कहा गोरक्षा के नाम पर नेता, ठेकेदार व अधिकारी की लापरवाही जो मीडिया ने उजागर की वह प्रशंसा योग्य है।