1 जनवरी – 98 साल की हुई “शिवपुरी” ! क्या कहती है ग्रहों की चाल….! जानिये,शिवपुरी के जन्मदिवस पर विशेष…..!

2551

पं विकास दीप शर्मा मंशापूर्ण पुजारी एवं ज्योतिष के अनुसार कैसा रहेगा , वर्ष 2018 शिवपुरी के लिए जाने ग्रहों की चाल से :— ०९४२५१३७३८२ , ९९९३४६२१५३

पंडित विकास दीप के अनुसार शिवपुरी का जन्म 1919 मे जारी नोटिफिकेसन के अनुसार 01 जनबरी 1920 को सीपरी का पुराना नाम बदलकर नया नाम शिवपुरी रखा गया | जो बाद मे यहा का स्थायी नाम हो गया | नया साल, नई खुशियां, नए सपने, नए अरमान और नए संकल्प लेकर आता है। कैसा रहेगा २०१8 शिवपुरी के विकास के लिए , यह देखने के लिए हम निरंतर प्रयास मे रहते है | शिवपुरी की जन्म कुंडली मे उच्च का गुरु है ओर सूर्य की दशम भाव पर पूर्ण द्रष्टि है | पराकर्म भाव के राहू शुक्र — बुध के साथ होने से यहा धर्म कार्यो से लाभ होगा |शुक्र बुध के प्रभाव से पर्यटक छेत्र से शिवपुरी का नाम देश में विख्यात है | शुक्र कला कारक है और बुध के प्रभाव से हरियाली और प्राकर्तिक सौंदर्य , विस्तार को बढावा देगा | धर्म नगरी भी कही जा सकती है | शिवपुरी की कुंडली में चतुर्थ भाव में सूर्य के प्रभाव से राजाओ का वर्चस्व रहेगा ओर राजाओ द्वारा ही विकास की धारा भी राजा के द्वारा हमेशा रहेगी | एकादश भाव में उच्च का गुरु के प्रभाव शिवपुरी में धर्म छेत्र के विस्तार से ही शहर का विकास होगा | शिवपुरी को धर्म की पूरी भी कह सकते है | एकादश गुरु के प्रभाव से सज्जनों और श्रेष्ठ व्यक्तियों की संगति करने वाले व्यक्ति हैं। राजा या सरकार के द्वारा सम्मान और लाभ मिलेगा। श्रीमान और राज कुलीन लोगों से शहर की उन्नति होगी। मित्र अच्छे स्वभाव के होंगे। शहर की आशाओं और महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में वो आपकी सहायता करेंगे। अच्छे मित्रों की सलाह आपके लिए उत्तम और फायदेमंद रहेगी । आपके द्वारा किए गए उत्तम कार्यों से समाज में आपका नाम होगा और श्रेष्ठता भी बढेगी। आपको अर्थलाभ और धन की प्राप्ति होगी। शिवपुरी एक धन धान्य से पूर्ण भाग्यवान शहर हैं। आमदनी के कई श्रोत बनेंगे | जनता कारक चतुर्थ भाव का स्वामी चन्द्र केतु के साथ होने से जनता का मन पल पल बदलता रहेगा | शिवपुरी की कुंडली में लग गत मंगल के प्रभाव से शहर के आकर्षण में कुछ कमी आ जाती है । पराक्रम की बृद्धि होती है, मगर भौतिक सुखों का अभाव बना रहता| व्यवसाय के पक्ष में भी कुछ कठिनाइयां आती हैं । जातक जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में संघर्षों का मुकाबला करता हुआ बढ़ता है ।
2018 ग्रहो का योग मण्डल :–२०१८ की शुरुबात सर्वार्थ सिद्धि योग , अमृत सिद्धि योग से प्रारंभ होकर म्राग्शिरा नक्षत्र और पूर्णिमा की रात्री के शुभ संयोग से हो रही है | इस वर्ष गृह नक्षत्रो के अनुसार कृषि , व्यापार और मोसम पर प्रभाव दिखेगा | शनि का धनु राशि में केतु के नक्षत्र में होने से राजनीतिक परिवर्तन , और तनाव की स्थाथी देखने को मिलेगी | भूमि भवन का कारोबारी करने वालो को लाभ होगा | कही सूखा तो कही तूफानी मोसम के साथ प्राक्रतिक असंतुलन देखने को मिलेगा | २००७ के बाद अब २०१८ में रहेगा ज्येष्ठ माह में पुरुषोत्तम माह | नया विक्रम संवत २०७५ में ज्येष्ठ के २ माह होने से 1 मई २०१८ से२८ जून २०१८ तक ज्येष्ठ मॉस होने से गर्मी का तापमान अधिक रहेगा | इस मॉस में मांगलिक कार्य बंद रहेंगे पर धार्मिक अनुष्ठान किया जा सकता है |
२०१८ में 5 राशियों के लिए मिल रहे है शुभ संकेत :– 1- वृषभ राशि वालो को २०१८ में अच्छी खबर मिलने का योग है | खोयी संपत्ति प्राप्त होगी | दौडभाग ज्यादा होगी लाभ मिलेगा |संतान सुख मिलेगा | मेष राशी :– क्रिएटिव बने रहेंगे | विपक्ष कमजोर होगा | स्वास्थ्य का ध्यान रखे | कर्क राशि :- शत्रु परास्त होंगे |व्यापार में लाभ होगा |माशिक आय में वृधि होगी | तुला :– फंसा हुआ धन प्राप्त होगा | कर्ज किसी को न दे | २०१८ में लाभ योग उत्तम है | मिथुन :- सम्मान में वृधि होगी | किसी को धन देने से बचे | 2०१८ में निम्न राशि को देखना पडेगा संघर्ष — ब्रश्चिक , धनु , मकर और कन्या राशि वालो को २०१८ में
शिवपुरी की मेष राशि पर २०१८ में राहू का प्रभाव :– मेष राशि पर राहु २०१८ में चौथे भाव में रहेगा। शहर के लोगो को फेफड़ों और सांस से संबंधित परेशानी हो सकती है। अगर आप धूमप्रान करते हैं तो डॉक्‍टर से नियमित चेकअप जरूर करवाते रहें। इलेक्‍ट्रिकल शॉर्ट या किसी पार्टी के दौरान आग लगने की संभावना है। स्‍थान परिवर्तन हो सकता है। छात्र परीक्षा में अच्‍छा प्रदर्शन कर पाएंगें। मेष राशि (Aries) के लोगों की मां की तबियत चिंता का विषय रहेगी। रियल एस्‍टेट और वाहनों की खरीद-फरोख्‍त के व्‍यापार से जुड़े लोग धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं। युवा वर्ग करियर और बिजनेस में अच्‍छा प्रदर्शन नहीं कर पाएंगें। समय-समय पर आपको नुकसान झेलना पड़ेगा | 20 अगस्‍त, 2017 को छाया ग्रह राहु को कर्क राशि में गोचर हुआ । कर्क राशि के स्‍वामी ग्रह चंद्रमा का राहु शत्रु है। इसलिए कई बार चंद्रमा और राहु की युति में मानसिक विकारों का सामना करना पड़ता है। कई बार ये युति जातक को चरित्रहीन भी बना देती है। राहु हमेशा बुरा फल ही नहीं देता। राहु कर्क राशि में 6 मार्च, 2019 तक रहने वाला है, उसके बाद यह मिथुन राशि में गोचर करेगा। भारत की कुंडली में राहु तीसरे घर में गोचर करने वाला है जो कि अच्‍छा फल देगा।

2014 के वर्ष फल में हमने शिवपुरी की कुंडली से शनि मे राहू दशा के प्रभाव से हुई शहर की दुर्दशा उजाड्पन :–29-05-2014 से 04-04-2017 तक शनि मे राहू दशा रहेगी | राहू परिवर्तन का कारक गृह है | शिवपुरी की कुंडली मे राहू पराक्रम मे होने से तीसरा भाव प्रदर्शन का है | कोई बड़े कार्य योजना का पूर्ण होना दर्शाता है | राहू की अंतर्दशा मे कोई भी शहर का उजाड़ पन भी होता है लेकिन राहू पहले बिगाडता है फिर शहर की दशा को सुधारता भी है | राहू के आने से परिवर्तन कई छेत्रों मे देखने को मिलेगा | शनि से राहू का गौचर एकादशा होने से 201७ मे नवीनीकरण के कार्य अधिक रहेंगे | छोटी छोटी बातों मे क्लेश , झगड़ा , की संभावना बनेंगी | साथ ही ऊंची सोच के साथ बड़े परिणाम सामने आएंगे | जाते जाते राहू देव शहर को विकास का मार्ग देकर जायेंगे |
शनि में गुरु की अन्तर्दशा लायेगी शहर में विकास के नए आयाम :– वर्तमान में शिवपुरी की जन्म कुंडली में ०४ अप्रैल २०१७ से १६-१०-२०१९ तक शनि में गुरु की अन्तर्दशा रहेगी | शनि में बृहस्पति-अंतर्दशा शुभ बृहस्पति की अंतर्दशा आने पर जातक राहु की अंतर्दशा के दुखों को विस्मृत कर सुख की सास लेता है। जातक की वृति धार्मिक और सत्कर्मो की ओर तथा, बुद्धि सात्विक बनती है। धर्म के प्रति आकर्षित होता है। पुत्राथी को पुत्र, धनार्थी को धन व ज्ञानार्थी को ज्ञान प्राप्त हो जाता है। घर में अनेक मंगल कार्य सम्पन्न होते है । जातक सत्कर्मी होकर ऐश्वर्यपूर्ण जीवन व्यतीत करता है।। किसी प्रियजन की मृत्यु के समाचार से मन को सन्ताप, कर्म हानि, विदेशवास तथा कोढ़ और चमड़ी के रोगों से देह पीड़ा मिलती है
गौचर पंचांग में वर्तमान में शनि देव गुरु की धनु राशि में होने से न्याय कारक रहेंगे | धर्म छेत्र में विस्तार होगा | मंदिर निर्माण और धर्म नीति की योजनाओं से लाभ मिलेगा | सितम्बर २०१८ तक शनि धनु राशि में ही रहेंगे |अध्यात्मिक कार्य और धर्म कार्य अधिक होंगे | शिक्षा के छेत्र में २०१८ में काफी बदलाब आयेगा | बैंकिंग छेत्र में भी शनि गुरु का योग परिवर्तन कारी होगा | ६ सितम्बर २०१८ को शनिदेव १४२ दिन के लिए वक्री रहेंगे | शिवपुरी की मेष राशि २०१८ में काफी महत्वपूर्ण सफल सिद्ध होने वाली है | २०१८ में कई सकरात्मक परिणाम आयेंगे |जून से सितम्बर २०१८ कुछ ऐसी परेशानी भी सामने आएँगी लेकिन परिणाम सकरात्मक ही रहेंगे | आर्थिक स्तथी के कारण कुछ हालात बेकार भी रहेंगे | कला सौंदर्य प्रिंटिंग और मीडिया के लिए ये वर्ष काफी वित्तीय लाभ प्रद होगा | जमीन से जुड़े कार्य करने वाले २०१८ में सतर्क रहे | अप्रैल २०१८ में जमीनी प्रकरणों में उलझनो का योग मंगल शनि विवाद कारी रहेगा | गलत रूप से खरीद विक्री और कब्जा इत्यादि प्रकरणों में विवाद सामने आयेंगे | शिक्षा के छेत्र में प्रतियोगी छात्रो का नाम रोसन अधिक होगा |

शनि देव का धर्म की राशि आना लाएगा राजनीति में परिवर्तन :– २९-10 – 2017 से 24 – 01 – 2020 तक शनि देव अपनी राशि परिवर्तन करके धनु राशि में रहेंगे | शिवपुरी की कुंडली में चतुर्थ भाव जनता का होने से सूर्य शनि की युति खराब होगी | सूर्य राजा का प्रतीक है और शनि जनता भाव का कारक होने से मतभेद की स्थति आएगी | शनि का परिवर्तन 20 1 8 में लोगो की सोच बदलेगा और शनि के प्रभाव से समानता के कार्यो की योजना बनेगी | शनि का बदलाब होने से कई स्थति में बहुत बड़ा लाभ मिलेगा |शनि के प्रभाव से २०१७ – २०१८ में शिवपुरी की कुंडली से कई राजनेतिक परिवर्तन देखने को मिलेंगे | शनि का ३० साल बाद इस भाव में आना बहुत कुछ परिवर्तन शिवपुरी को देखने मिलेगा | इस बार राजनीति का कोई बहुत बड़ा परिवर्तन शिवपुरी को देखने मिल सकता है |
शुभ समय :– शिवपुरी के लिए 21 मार्च से 21 अप्रैल का समय ,,21 जुलाई से 28 अगस्त ओर 21 नबंवर से 28 दिसंबर का समय लाभ कारी रहेगा | नवीन निर्माण कार्य , संस्कृतिक कार्यक्रम होंगे